नैनी सेंट्रल जेल में डीएम और एसपी का छापा, तलाशी में मिली ये प्रतिबंधित सामग्रियां

सेंट्रल जेल नैनी में रविवार की सुबह डीएम, एसएसपी ने जिले भर के एसडीएम, सीओ व भारी पुलिस बल के साथ छापेमारी की। तलाशी के दौरान मोबाइल, कैंची, लाइटर व पान मसाला समेत कई आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुईं।

Published by Aditya Mishra Published: June 30, 2019 | 3:56 pm
Modified: June 30, 2019 | 4:07 pm
नैनी जेल

नैनी जेल

लखनऊ: सेंट्रल जेल नैनी में रविवार की सुबह डीएम, एसएसपी ने जिले भर के एसडीएम, सीओ व भारी पुलिस बल के साथ छापेमारी की। तलाशी के दौरान मोबाइल, कैंची, लाइटर व पान मसाला समेत कई आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुईं। मोबाइल की बरामदगी ने जेल प्रशासन के सुरक्षा इंतजाम पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें…उन्नाव जेल: असलहा लहराने के मामले में कड़ी कार्रवाई, 4 जेल कर्मियों का तबादला

जेल के अंदर से आपराधिक साजिश रचने का आरोप

नैनी सेंट्रल जेल में बंद कई बंदियों पर रंगदारी मांगने और हत्या की सुपारी लेने के भी आरोप लगते रहे हैं। कुछ कैदियों के कनेक्शन भी दूसरे शहर के शूटरों से रहे हैं। इसलिए आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के लिए यहां बंद अपराधियों द्वारा साजिश रचने का भी आरोप रहा है।

ये भी पढ़ें…जानिए क्यों ! अब अपराधियों के लिए आरामगाह नहीं बन सकेंगी यूपी की जेल

आंख मलते हुए पहुंचे जेल अफसरों की अटकी रही सांसें

अचानक भोर में छापेमारी की सूचना पर जेल प्रशासन के होश उड़ गए। वरिष्ठ जेल अधीक्षक एचबी सिंह, डिप्टी जेलर पवन शुक्ला, आशुतोष मिश्रा तो आंख मलते हुए जेल पहुंचे। जब तक छापेमारी चली तब तक जेल अफसरों की सांसे अटकी रही।

फोर्स की भीड़ देख सब भौचक थे। जिस सेंट्रल जेल में बंद करीब 3800 कैदियों की सुरक्षा में मात्र 125 जेल के अधिकारी कर्मचारी लगे हों, वहां 800 से ज्यादा मातहतों संग छापेमारी करने पहुंचे अफसरों ने सभी को चौंका दिया।

खंगाला गया जेल का कोना-कोना

जिले के 5 एडीएम, 9 एसडीएम, 1 एएसपी, 5 एसपी, 12 सीओ, 39 थानों के प्रभारी, सभी पुलिस चौकी प्रभारी,  फायर ब्रिगेड और करीब 500 आर्म्ड फोर्स के जवान इस छापेमारी में शामिल हुए।

सुरक्षा के इंतजाम पर लगा प्रश्नचिह्न
अधिकारियों द्वारा छापेमारी की कार्रवाई के दौरान नैनी जेल के विभिन्न बैरकों में तलाशी अभियान भी चलाया गया। इस दौरान मोबाइल, कैंची, लाइटर व पान मसाला समेत कई आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुईं। इससे सुरक्षा के इंतजाम में सेंध लगने जैसी स्थिति नजर आई।

मोबाइल मिलने से जेल प्रशासन द्वारा सुरक्षा इंतजाम पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं। मोबाइल मिलने से जेल से बाहर बात करने की बात भी आशंका जताई जा रही है। क्योंकि आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने के लिए मोबाइल से भी ताना-बाना बुना जा सकता है।’

ये भी पढ़ें…वीडियो के बाद अब सुल्तानपुर जेल से वायरल हुआ ये लेटर, ये है पूरा मामला
अचानक छापेमारी से मचा रहा हड़कंप
नैनी जेल में सुबह-सुबह ही अधिकारियों द्वारा की गई छापेमारी की कार्रवाई से वहां हड़कंप मचा रहा। अचानक भारी संख्या में फोर्स की मौजूदगी से बंदियों में अफरा-तफरी मची रही। वहीं जेल के सिपाही और अधिकारी भी व्यवस्था को लेकर सजग दिखे।

जेल के बैरक में शराब व मुर्गे की हुई थी दावत
नैनी जेल की बैरक नंबर तीन में 21 मार्च को विचाराधीन बंदी राम कुमार यादव उर्फ कल्लू, संजय यादव, बंदी उदय यादव व सना उल्ला ने शराब व मुर्गें की पार्टी की थी। किसी बंदी ने इसकी फोटो बना लिया था।

सोशल मीडिया में जेल के अंदर की तस्वीरे वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया। इस मामले में उप महानिरीक्षक कारागार प्रयागराज मंडल ने बंदियों की सुरक्षा में तैनात वार्डन मूलचंद दोहरे व कृष्ण कुमार को निलंबित कर दिया था। पूरे मामले की जांच कौशांबी जेल अधीक्षक बीएस मुकंद को सौंपी गई थी।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App