Top

गिड़गिड़ाता रहा पति: नहीं पसीजा डॉक्टर का दिल, गर्भवती पत्नी का हुआ ऐसा हाल

कहते हैं कि डॉक्टर भगवान का दूसरा रूप होते हैं और मरीजों को चिकित्सीय सेवा पहुंचाना उनका धर्म होता है, लेकिन हारदोई के डॉक्टरों का एक ऐसा रूप सामने आया है जिससे एक गर्भवती महिला की मौत हो गयी।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 11 Sep 2020 4:42 PM GMT

गिड़गिड़ाता रहा पति: नहीं पसीजा डॉक्टर का दिल, गर्भवती पत्नी का हुआ ऐसा हाल
X
गिड़गिड़ाता रहा पति: नहीं पसीजा डॉक्टर का दिल, गर्भवती पत्नी का हुआ ऐसा हाल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई: कहते हैं कि डॉक्टर भगवान का दूसरा रूप होते हैं और मरीजों को चिकित्सीय सेवा पहुंचाना उनका धर्म होता है, लेकिन हारदोई के डॉक्टरों का एक ऐसा रूप सामने आया है जिससे एक गर्भवती महिला की मौत हो गयी। हालांकि महिला का पति डॉक्टरों के सामने गिड़गिड़ाता रहा मिन्नते करता रहा लेकिन धरती के भगवान नही पसीजे।

ये भी पढ़ें: धड़धड़ाते हुए कार्यालय पहुंचे DM, दिखा ऐसा नजारा, आ गया गुस्सा

कई घंटे जमीन पर पड़ी तड़पती रही महिला

जिला महिला अस्पताल में डॉक्टरों की संवेदनहीनता के चलते एक गर्भवती महिला की आखिर मौत हो ही गयी। प्रसव पीड़ा से परेशान रही महिला को अस्पताल कर्मियों ने उसे खून की कमी बताकर भर्ती करने से मना करते हुए रिफर का पर्चा थमा दिया था जिसके बाद वह कई घंटे जमीन पर पड़ी तड़पती रही और मौत के बाद परिजन उसको घर लेकर चले गए। महिला के पति ने चिकित्सक पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। वहीं प्रभारी सीएमएस ने कहाकि खून की कमी से रिफर कर दिया था इसके बाद कि स्थिति उनकी जानकारी में नही।

खून की कमी बताकर गर्भवती महिला को किया गया था रिफर

कछौना थाना इलाके के कलौली गांव निवासी रेशमा पत्नी मेवाराम को गयरूवार को प्रसव पीड़ा हुई तो परिजन उसे उठाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कछौना ले गए। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से महिला को इलाज के लिए जिला महिला अस्पताल रेफर किया गया। जैसा कि उसके पति का कहना है कि जिला महिला अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे देखा और कहा कि खून की कमी है इसके बाद उसे भर्ती करने से मना कर दिया और रिफर करने का पर्चा देकर अस्पताल से बाहर निकाल दिया।बताया कि वह अपनी प्रसव पीड़िता पत्नी को लेकर अस्पताल के बाहर आ गया और कई घंटे तक जमीन पर पड़ी रही महिला की मदद के लिए अस्पताल कर्मियों से गुहार लगाता रहा लेकिन उसकी किसी ने न सुनी।

ये भी पढ़ें: स्वामी अग्निवेश नहीं रहे: अस्पताल में तोड़ा दम, लोगों में शोक

महिला के पति ने लगाया डॉक्टर पर लापरवाही बरतने का आरोप

इधर महिला की हालत बिगड़ती रही और हालत बिगड़ते बिगड़ते आखिर महिला की मौत हो गयी। महिला की मौत के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। परिजन महिला के शव को लेकर घर आ गए। महिला के शव का शुक्रवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। महिला के पति ने चिकित्सकों पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। वहीं प्रभारी सीएमएस ने कहाकि खून की कमी से रिफर कर दिया था इसके बाद कि स्थिति उनकी जानकारी में नही है।हालांकि कैमरे के सामने बोलने से साफ मना कर दिया।लेकिन जिस तरह से गर्भवती महिला की मौत हो गयी है वह सिस्टम पर सवालिया निशान खड़ा कर रही है।

रिपोर्ट: मनोज तिवारी

ये भी पढ़ें: RSS के मजदूर संघ ने प्रधानमंत्री से कहा- कोरोना काल में लोगों की आ‍जीविका बचाओ

Newstrack

Newstrack

Next Story