×

गंगा यात्रा: गांव-शहरों का हो रहा कायाकल्प,'नदी नहीं संस्कार है, देश का श्रृगांर है गंगा'

गंगा यात्रा की तैयारी जोरों पर है। बलिया जनपद के दुबे छपरा से निकल कर 1038 ग्राम सभाओं से गुजरने वाली गंगा यात्रा की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। जिन रास्तों से यात्रा गुजरेगी उन गांवों में साफ-सफाई अभियान चल रहा है।   दुबहड़ गांव में में स्थानीय चट्टी पर यात्रा के भव्य स्वागत के लिए विशेष तैयारियां की जा रही हैं।

suman

sumanBy suman

Published on 20 Jan 2020 5:47 AM GMT

गंगा यात्रा: गांव-शहरों का हो रहा कायाकल्प,नदी नहीं संस्कार है, देश का श्रृगांर है गंगा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: गंगा यात्रा की तैयारी जोरों पर है। बलिया जनपद के दुबे छपरा से निकल कर 1038 ग्राम सभाओं से गुजरने वाली गंगा यात्रा की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। जिन रास्तों से यात्रा गुजरेगी उन गांवों में साफ-सफाई अभियान चल रहा है। दुबहड़ गांव में में स्थानीय चट्टी पर यात्रा के भव्य स्वागत के लिए विशेष तैयारियां की जा रही हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग 31 के किनारे उगे झाड़ियों को साफ कराया जा रहा हैं। यात्रा के गुजरने वाले मार्ग पर लोगों को गंगा सफाई के लिए जागरूक करने के लिए 'नदी नहीं संस्कार है गंगा, देश का श्रृगांर है गंगा' जैसे स्लोगनों से दिवालों पर वालपेंटिग कराया जा रहा है।

यह पढ़ें....अभी-अभी दिल्ली में लगी भीषण आग: दमकल की 8 गाडियां मौके पर मौजूद

लाक्षागृह

इसी तरह महाभारत में प्रसिद्ध लाक्षागृह शहर से करीब 45 किमी दूर हंडिया तहसील में स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि अज्ञातवास के दौरान यहां कौरवों ने पांडवों को जलाकर मारने का प्रयास किया था। इसलिए धार्मिक और ऐतिहासिक दृष्टि से इसका अधिक महत्व है। अभी तक इसके रखरखाव की ओर शासन और प्रशासन का ध्यान नहीं जा रहा था। हालांकि अब लाक्षागृह जाएंगे तो सब कुछ बदला-बदला सा नजर आएगा। गंगा यात्रा के बहाने लाक्षागृह का भी कायाकल्प होने लगा है। इसके लिए जिले का सरकारी अमला जुट गया है। पर्यटन विभाग भव्य तोरण द्वार बनवा रहा है। वहीं लाक्षागृह किला कोट के सुंदरीकरण का कार्य भी शुरू हो गया है। प्रदेश सरकार की ओर से 27 जनवरी को गंगा यात्रा बलिया से शुरू होगी।

कासगंज

कासगंज जिले में 29 जनवरी आ रही गंगा यात्रा की सफलता के लिए प्रशासन ने ताकत झोंक दी है। जिले में यात्रा का भव्य स्वागत किया जाएगा। गंगा किनारे के गांव में स्वागत के लिए तैयारियां की गई हैं। सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त की जा रही हैं। इस दौरान कई जगह अनियमितताएं मिलीं। इस यात्रा का जिला प्रशासन द्वारा भव्य स्वागत किया जाएगा। यात्रा का स्वागत सबसे पहले लहरा घाट पर किया जाएगा। उसके बाद यात्रा स्टीमर से कछला गंगाघाट पर पहुंचेगी। यहां धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन होगा और यात्रा का भी स्वागत होगा। 34 गांव से होकर गुजरेगी गंगा यात्रा।54 किलोमीटर की यात्रा का जगह जगह होगा स्वागत।

यह पढ़ें....आजम खां के चल रहे बुरे दिन, योगी ने छीना पट्टा, HC ने भी दिया झटका

इस दिन से शुरु होगी यात्रा

गंगा यात्रा 27 से 31 जनवरी तक चलेगी। शासन से तय कार्यक्रम के मुताबिक सीएम योगी बिजनौर बैराज से मेरठ के लिए निकलने वाली गंगा यात्रा का शुभारंभ करेंगे। गंगा में पानी की कमी की वजह से सीएम योगी की जलयात्रा निरस्त कर दी गई है, ऐसे में प्रभारी मंत्री श्रीकांत शर्मा विधायकों के साथ सांकेतिक जलयात्र कर सकते हैं। प्रशासनिक अधिकारियों की मानें तो मेरठ के प्रभारी मंत्री गंगा यात्र में दो दिनी कैंप करेंगे। वो बिजनौर से रामराज होते हुए हस्तिनापुर पहुंचेंगे।

suman

suman

Next Story