×

राम भक्तों ने 28 वर्ष तक धैर्य और साहस से सामना किया: VHP

इस निर्णय से उन विषयों का पटाक्षेप हो जायेगा जो गत 472 वर्षों से हिन्दू मानस को व्यथित करते रहें हैं। विहिप अध्यक्ष ने कहा कि राम भक्तों ने इन झूठे मुकदमों का 28 वर्ष तक धैर्य और साहस से सामना किया।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 30 Sep 2020 9:08 AM GMT

राम भक्तों ने 28 वर्ष तक धैर्य और साहस से सामना किया: VHP
X
राम भक्तों ने 28 वर्ष तक धैर्य और साहस से सामना किया: VHP
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: अयोध्या के विवादित ढांचे से सम्बंधित आपराधिक मुक़दमे का निर्णय आ गया है। सत्य और न्याय की विजय हुई है। हालाँकि न्यायालयों को यह निर्णय देने में 28 वर्ष लग गये। इस निर्णय से उन विषयों का पटाक्षेप हो जायेगा जो गत 472 वर्षों से हिन्दू मानस को व्यथित करते रहें हैं। विहिप अध्यक्ष ने कहा कि राम भक्तों ने इन झूठे मुकदमों का 28 वर्ष तक धैर्य और साहस से सामना किया। इसमें 49 एफ़आईआर थीं, अभियोजन ने 351 गवाह पेश किये और लगभग 600 दस्तावेज न्यायालय में दिए गये। मुक़दमे को सुन रहे नयायाधीश का कार्यकाल, उनके सेवानिवृत होने के बाद भी कई बार बढ़ाना पड़ा। तब जाकर यह फैसला आ पाया है।

अब संगठित और प्रगत भारत के निर्माण के लिए आगे बढ़ने का समय

उन्होंने कहा कि प्रारंभ में सरकार ने 49 लोगों को अभियुक्त बनाया था। हम कृतज्ञता से उन 17 लोगों का पुण्य स्मरण करते है जो इस मुक़दमे को चलते वैकुण्ठ सिधार गये। इनमे अशोक सिंघल, पूज्य महंत अवैद्यनाथ, पूज्य परमहंस रामचन्द्र दास, श्रीमंत राजमाता विजया राजे सिंधिया, आचार्य गिरिराज किशोर, बाल ठाकरे, विष्णुहरी डालमिया और वैकुण्ठ लाल शर्मा (प्रेम जी) जैसे महानुभाव है।

ये भी देखें: बाबरी विध्वंस मामला: सत्यमेव जयते के अनुरूप सत्य की जीत हुई

उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायलय के 9 नवम्बर 2019 के आदेश में यह सदा के लिए घोषित कर दिया है कि अयोध्या की सम्बंधित भूमि श्री रामलला विराजमान की ही है। आज के निर्णय ने षड़यंत्र के आरोपों को ध्वस्त कर दिया है। अब समय है कि हम राजनीति से ऊपर उठें, और बार-बार पीछे देखने की बजाये एक संगठित और प्रगत भारत के निर्माण के लिए आगे बढ़ें।

सामाजिक ऊँच-नीच को दूर करके समरस समाज की स्थापना

उन्होंने कहा कि भारतीय समाज को अब अपना ध्यान आगे आने वाले कार्यों की ओर लगाना है। विश्व हिन्दू परिषद् पुनः अपने आप को श्रीरामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण, सामाजिक ऊँच-नीच को दूर करके समरस समाज की स्थापना, अनुसूचित जाति-जनजाति और आर्थिक रूप से पिछड़े अन्य वर्गों की सामाजिक, शैक्षणिक और आर्थिक उन्नति के लिए समर्पित करती है।

ये भी देखें: आ गई नई बीमारी: कोरोना के बाद इसने दी दस्तक, नहीं है इसका कोई इलाज

विहिप अध्यक्ष ने कहा कि हमें ऐसा सशक्त भारत बनाना है जो अपने अन्दर के और सीमाओं पर की चुनौतियों का सफलता से सामना कर सके। विश्व हिन्दू परिषद् मंदिर और उनकी सम्पत्तियों की रक्षा और मंदिरों की आय धर्म एवं समाज हित के कार्यों के लिए ही व्यय होने के लिए भी अपना संघर्ष सतत जारी रखेगी।

Newstrack

Newstrack

Next Story