बारावफात पर निकला जुलूस, मुसलमानों ने मांगी अमन चैन की दुआ

अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। विवादित जमीन रामलीला को दी गई है। वहीं मुसलमानों को अयोध्या में विवादित स्थल से दूर किसी अन्य स्थान पर 5 एकड़ जमीन देने का निर्णय लिया गया है।

लखनऊ/भदोही: अयोध्या केस में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है। विवादित जमीन रामलीला को दी गई है। वहीं मुसलमानों को अयोध्या में विवादित स्थल से दूर किसी अन्य स्थान पर 5 एकड़ जमीन देने का निर्णय लिया गया है।

कोर्ट का फैसला आने के बाद हिन्दू और मुस्लिम दोनों धर्मों के लोगों ने फैसले का स्वागत किया है। उधर जनपद के सुरियावा नगर मे पैगंबर मोहम्मद साहब के जन्म दिवस बारह रबी उल अव्वल(बारावफात) पर मुसलमानों की तरफ से जुलूस निकाला गया। स्थानीय लोगों ने बताया कि यहां जुलूस निकालने की परम्परा लगभग 200 साल पुरानी है।

इस मौके पर आयोजक और मौलानाओं ने अयोध्या फैसले पर लोगों से भाईचारा व एकता बनाए रखने की व पैगंबर मोहम्मद साहब की सीरत पर चलने की अपील की।

इस जुलूस में छोटे -छोटे बच्चों ने हाथ में सफेद झंडे लेकर के शिरकत की।  इस मौके पर सुरियावा थाना की पुलिस को चप्पे-चप्पे पर तैनात किया गया था।

ये भी पढ़े…अयोध्या में इस खास जगह पर बनाई जा सकती है मस्जिद, जानें इसके बारे में सबकुछ

लखनऊ में प्रशासन अलर्ट पर

शनिवार को राजधानी में विवादित स्थल पर आए फैसले को लेकर कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। पुलिस प्रशासन के आलाधिकारी खुद सड़कों पर पैदल मार्च करते दिखे।

राजधानी को छह जोन, 98 सेक्टर और 240 सब सेक्टर में बांटा गया है। सभी सेक्टर में अलग-अलग विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है।

एडीजी जोन, आइजी रेंज और कमिश्नर एक ही गाड़ी में सुबह से राजधानी के अलग-अलग इलाकों में भ्रमण करते रहे। उधर, एसएसपी और डीएम शनिवार सुबह पुराने लखनऊ पहुंचे और पाटानाला पुलिस चौकी पर मातहतों को दिशानिर्देश दिए। सुरक्षा के मद्देनजर राजधानी को छह जोन, 98 सेक्टर और 240 सब सेक्टर में बांटा गया है।

सभी सेक्टर में अलग-अलग विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है, जो क्षेत्र में भ्रमणशील रहे। शनिवार को पुराने शहर में होने वाले जुलूस के मद्देनजर एसएसपी ने सुरक्षा और कड़ी करने के निर्देश दिए हैं।

दोपहर बाद सड़कों पर चहल पहल बढऩे के बाद दोपहिया वाहनों से गश्त करने वाली पुलिस की संख्या बढ़ा दी गई। एसएसपी ने सभी क्षेत्रों में गश्त करने वाली टीम को सायरन बजाते हुए माहौल पर नजर रखने को कहा।

डीएम को साथ लेकर एसएसपी ने ट्रांस गोमती क्षेत्र के कुछ संवेदनशील इलाकों का भ्रमण किया। हालांकि दिन में कहीं से भी किसी प्रकार के हंगामे अथवा नोकझोक की सूचना नहीं आई।

ये भी पढ़ें…अयोध्या फैसले पर पाकिस्तान के बयान को हम अस्वीकार करते हैं: विदेश मंत्रालय