मंदिर निर्माण के लिए मुसलमानों को आगे आना चाहिएः रामविलास वेदांती

रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदान्ती ने आज कहा कि भारत में सद्भावना शांति बनी रहे इसके लिए मुसलमानों को आगे आकर कहना चाहिए कि हिंदू अपना मंदिर अयोध्या में निर्माण कराएं। अयोध्या में राम मंदिर बनना चाहिए और लखनऊ में एक मस्जिद का निर्माण होना चाहिए लेकिन बाबर के नाम से नहीं।

लखनऊ: रामजन्मभूमि न्यास के कार्यकारी अध्यक्ष रामविलास वेदान्ती ने आज कहा कि भारत में सद्भावना शांति बनी रहे इसके लिए मुसलमानों को आगे आकर कहना चाहिए कि हिंदू अपना मंदिर अयोध्या में निर्माण कराएं। अयोध्या में राम मंदिर बनना चाहिए और लखनऊ में एक मस्जिद का निर्माण होना चाहिए लेकिन बाबर के नाम से नहीं।

यह भी पढ़ें…CWC 2019: शास्त्री और कोहली को इन सवालों का देना होगा जवाब, तैयार बैठा है CoA

पत्रकारों से वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने तीन महापुरुषों को समझौता के लिए नियुक्त किया था। अयोध्या में जो कुछ है सब राम के नाम पर है। उन्होंने कहा कि बाबर सबसे पहले हरियाणा के बाबरपुर में आया था। उसका अयोध्या में कोई लेना देना नही है। अगर मुसलमानों को मस्जिद बनाना है तो हरियाणा में बनाएं। सुन्नी वक्फ बोर्ड के लोगों और देश के मुसलमानों से कहना चाहता हूं कि पाकिस्तान और मलेशिया में परिवर्तन हो सकता है तो भारत में भी परिवर्तन होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हम सभी लोग सांप्रदायिक सौहार्द चाहते हैं और प्रधानमंत्री ने भी सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास का नारा दिया। उन्होंने कहा कि देश के मुसलमानों को कहना चाहिए कि जो भी मंदिर तोड़ा गया है उसे दोबारा बनना चाहिए बड़े अफसोस की बात है कि जिस देश में 90 प्रतिशत हिंदू है वहां के लोग मंदिर बनाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में मुकदमा लड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें…यूपी: चीनी मिल घोटाला मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने दर्ज किया केस

उन्होंने कहा कि देश का कोई भी हिंदू या नहीं कहता कि मक्का और मदीना में मंदिर है। सुप्रीम कोर्ट को भारत में सौहार्द बनाने के लिए कुछ ना कुछ निर्णय लेना होगा। उन्होंने कहा कि 30000 मंदिर मुगल काल में तोड़े गए हम सभी मंदिरों को बनवाने की बात नहीं करते। सुन्नी वक्फ बोर्ड के लोगों को सुप्रीम कोर्ट से अपना मुकदमा वापस ले लेना चाहिए।