रामनाईक ने पांच साल में केवल 22 दिन अवकाश लिया

आगामी 22 जुलाई को अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा होने के पहले राज्यपाल रामनाईक अपने पूरे कार्य का व्यौरा देंगे। नाईक ने पांच साल पहले 22 जुलाई 2014 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल पद की शपथ ली थी।

governer-up-ramnaik

governer-up-ramnaik

लखनऊ: राज्यपाल ने गत पांच वर्षों में 30,107 लोगों से भेंट की तथा 1,730 सार्वजनिक कार्यक्रमों में सम्मिलित हुए। इस दौरान नये लोगों से भेंट हुई और नये संबंध भी बने। नाईक ने राज्यपाल को प्रतिवर्ष देय 20 दिन के अवकाश में से गत पांच वर्षों में 100 दिन के स्वीकृत अवकाश में केवल 22 दिन का ही अवकाश लिया

ये भी देखें : चीफ जस्टिस का सभी जिला जजों और विशेष कार्याधिकारियो को निर्देश

आगामी 22 जुलाई को अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा होने के पहले राज्यपाल रामनाईक अपने पूरे कार्य का व्यौरा देंगे। नाईक ने पांच साल पहले 22 जुलाई 2014 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल पद की शपथ ली थी।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने प्रदेश के नागरिकों का धन्यवाद और आभार व्यक्त करते हुए कहा है कि राज्यपाल के रूप में उनके पांच साल के कार्यकाल पर आधारित अपने संस्मरण भेजें ताकि उसे उनकी पुस्तक ‘चरैवेति!चरैवेति!! (दो)’ में सम्मिलित किया जा सके।
राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश की जनता से उन्हें अपने पांच साल के कार्यकाल में भरपूर सहयोग, सम्मान, स्नेह और समर्थन मिला।

राज्यपाल चाहते हैं कि प्रदेश की जनता के संस्मरण को अपनी दूसरी पुस्तक में संजोये, जो उनके और प्रदेश की जनता के बीच आजीवन एवं अनवरत संवाद बनाये रखने की दृष्टि से, उनके लिए एक अनमोल तोहफा होगा।

ये भी देखें : ये क्या? सड़क नहीं बनी तो अधिकारी को ही पोल से बांधकर बना लिया बंधक

22 जुलाई को राज्यपाल अपने कार्य का व्यौरा देंगे

आगामी 22 जुलाई को अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा होने के पहले राज्यपाल रामनाईक अपने पूरे कार्य का व्यौरा देंगे। नाईक ने पांच साल पहले 22 जुलाई 2014 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल पद की शपथ ली थी।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने प्रदेश के नागरिकों का धन्यवाद और आभार व्यक्त करते हुए कहा है कि राज्यपाल के रूप में उनके पांच साल के कार्यकाल पर आधारित अपने संस्मरण भेजें ताकि उसे उनकी पुस्तक ‘चरैवेति!चरैवेति!! (दो)’ में सम्मिलित किया जा सके।

ये भी देखें : फिल्म कबीर सिंह को देखने के बाद दर्शकों ने दिया ऐसा रिएक्शन

राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश की जनता से उन्हें अपने पांच साल के कार्यकाल में भरपूर सहयोग, सम्मान, स्नेह और समर्थन मिला। राज्यपाल चाहते हैं कि प्रदेश की जनता के संस्मरण को अपनी दूसरी पुस्तक में संजोये, जो उनके और प्रदेश की जनता के बीच आजीवन एवं अनवरत संवाद बनाये रखने की दृष्टि से, उनके लिए एक अनमोल तोहफा होगा।

राज्यपाल ने गत पांच वर्षों में 30,107 लोगों से भेंट की तथा 1,730 सार्वजनिक कार्यक्रमों में सम्मिलित हुए। इस दौरान नये लोगों से भेंट हुई और नये संबंध भी बने। श्री नाईक ने राज्यपाल को प्रतिवर्ष देय 20 दिन के अवकाश में से गत पांच वर्षों में 100 दिन के स्वीकृत अवकाश में केवल 22 दिन का ही अवकाश लिया