VIDEO: यहां दुर्गा विसर्जन के दौरान हुआ बवाल, चले पत्थर

एडिशनल एसपी ने अंदेशा जताया कि मुस्लिमों द्वारा की गई पत्थरबाजी स्वाभाविक नहीं भी हो सकती है और सम्भावना है कि वे पहले से ही पत्थर वगैरह लेकर देवी-विसर्जन के जुलूस पर धावा बोलने को तैयार बैठे हों।

बलरामपुरः यूपी के बलरामपुर में दशहरे के पर्व पर संप्रदायिक हिंसा का मामला सामने आया है। यहां के पचपेड़वा क्षेत्र के हरखड़ी गांव में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान जमकर बवाल देखने को मिला।

ये है पूरा मामला

दरअसल यहां दुर्गा प्रतिमा विसर्जन का जुलूस जब समुदाय विशेष के इलाके से गुजरने लगा तो लोगों ने डीजे पर बज रहे गाने पर कड़ी आपत्ति जताई। जिसके बाद दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई। कहासुनी से बात इतनी बढ़ी कि दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए और जमकर पथराव हुआ। पथराव में करीब आधा दर्जन लोग चोटिल हो गए। भारी पुलिसबल व प्रशासनिक अधिकारियों के पहुंचने के बाद किसी तरह मामले को शांत कराया गया। फिलहाल पुलिस ने 8 लोगों को गिरफ्तार कर कार्यवाई शुरू कर दी है।

 

ये भी पढ़ें—  धनतेरस पर सुस्त रहेगा मार्केट, इस वजह से लोग नहीं खरीद रहे सोना

क्या कहा-एडिशनल एसपी ने?

बलरामपुर के एडिशनल एसपी ने बताया कि दुर्गा-पूजा विसर्जन के जुलूस पर तब हमला किया गया, जब यह एक मस्जिद के पास से गुजर रहा था। उस मस्जिद के दाहिने तरफ एक मोड़ है। सामान्यतः जुलूस जहां से भी गुजरता है, तो उसमें डीजे और गाना-बजाना भी शामिल रहता है। यह आशा की जाती है कि जब कोई हिन्दू धार्मिक जुलूस किसी मस्जिद के पास से होकर गुजरता है तो म्यूजिक साउंड ऑफ कर दिया जाता है। लेकिन बलरामपुर में कल ऐसा नहीं हुआ। इस कारण से स्थानीय मुस्लिम समुदाय नाराज हो गया और सबने मिल कर जुलूस पर हमला बोल दिया।

ये भी पढ़ें—  दशहरे के बाद धुएं में डूबी दिल्ली, कैसे बचेंगी लोगो की जान

मुस्लिमों द्वारा की गई पत्थरबाजी

एडिशनल एसपी ने अंदेशा जताया कि मुस्लिमों द्वारा की गई पत्थरबाजी स्वाभाविक नहीं भी हो सकती है और सम्भावना है कि वे पहले से ही पत्थर वगैरह लेकर देवी-विसर्जन के जुलूस पर धावा बोलने को तैयार बैठे हों।

8 लोग गिरफ्तार

वहीं इस मामले में बलरामपुर पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल से जानकारी देते हुए बताया कि दुर्गा-पूजा विसर्जन के जुलूस पर हमला और भारी पत्थरबाजी के मामले में अब तक 8 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है। वहीं आगे की कार्रवाई की जा रही है।

ये भी पढ़ें—  स्वामी चिन्मयानंद के मामले में पीड़िता का बयान दर्ज कराकर उसे वापस ले जाया गया

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

    Tags: