धनतेरस पर सुस्त रहेगा मार्केट, इस वजह से लोग नहीं खरीद रहे सोना

सोने की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। इस पर एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस बार धनतेरस पर सोने की खरीदारी पर 50 फीसदी तक कमी हो सकती है।

नई दिल्ली: सोने की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। इस पर एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस बार धनतेरस पर सोने की खरीदारी पर 50 फीसदी तक कमी हो सकती है। इंडिया बुलियन एंड जूलर असोसिएशन के नैशनल सेक्रटरी सुरेंद्र मेहता के अनुसार हर साल भारत में धरतेरस पर 40 टन सोने की बिक्री होती है। कीमतों में उछाल और इंपोर्ट ड्यूटी में बढ़ोत्तरी से सोने की आयात में भी गिरावट देखी गई है। बता दें कि इस साल सिंतबर में भारत ने केवल 26 टन सोना आयात किया है, बल्कि पिछले साल 81.71 टन सोने का आयात किया गया था। इस साल सोने के आयात में 68.18 फीसदी की गिरावट हुई है।

यह भी पढ़ें: राफेल अभी नहीं हुआ हमारा, जानें लगेगा कितना समय और बहुत कुछ

फीकी रहेगी सोने की मांग-

मार्केट एक्सपर्ट्स की मानें तो सरकार द्वारा जुलाई में आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ाकर 12.5 फीसदी करने के बाद सोने का आयात पिछले कई सालों निचले स्तर पर पहुंच चुका है। सुरेंद्र मेहता ने बताया कि, तीन तरह के सोने का मांग होती है। एक तो शादी के लिए, दूसरा त्योहारों में और तीसरा नियमित मांग। नियमित मांग लिक्विडिटी संकट की वजह से पहले से ही काफी कम है। यहीं नहीं बढ़ी कीमतों की वजह से लोग सोने में निवेश भी नहीं कर रहे हैं। कीमतों की बढ़ने की वजह से इस फेस्टिवल सीजन सोने की बिक्री में काफी कमी रहेगी।

बुलियन मार्केट की चमक रह सकती है कम-

एक्सपर्ट के अनुसार, सोने की कमजोर घरेलु मांग की वजह से ग्लोबल मार्केट में सोने की कीमतों में तेजी है। बता दें कि घरेलु बाजार ग्लोबल मार्केट के ट्रेंड के अनुसार काम करता है। कीमतों में मौजूदा कमी से फेस्टिव सीजन में बिक्री थोड़ी बढ़ सकती है। वहीं आर्थिक मंदी की वजह से बुलियन मार्केट की चमक फीकी रहने की उम्मीद है।

शुक्रवार को इतना दर्ज हुआ सोना-

मुंबई में शुक्रवार को 22 कैरट के 10 ग्राम सोने का दाम 39,190 रुपये दर्ज किया गया। वहीं 24 कैरट के 10 ग्राम सोने का दाम 39,340 रुपये दर्ज हुआ था।

यह भी पढ़ें: एक ऐसी ट्रेन जो बुझा रही थी लोगों की प्यास, सरकार ने किया बंद