राफेल अभी नहीं हुआ हमारा, जानें लगेगा कितना समय और बहुत कुछ

बताया जा रहा है कि जो 36 विमान भारत को मिलने हैं, उनमें से 18 अंबाला एयरबेस और 18 अरुणाचल प्रदेश के आसपास तैनात होंगे। यानी भारत पाकिस्तान और चीन से मिलने वाली चुनौती के लिए हर तरह से तैयार है।

नई दिल्ली: विवादों की जंजीर तोड़ते हुए आखिरकार भारत को पहला फ्रांसीसी लड़ाकू विमान राफेल मिल ही गया है। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विजयदशमी के दिन शस्त्र पूजा करने के साथ ही दसॉल्ट कंपनी से पहले राफेल विमान को रिसीव किया, इसी के साथ भारत की वायुसेना और अधिक शक्तिशाली हो गया है। लेकिन अभी भी भारत का राफेल हासिल करने में महीनों लग जायेंगे। तो यहां हम आपको बताने जा रहे हैैं कि राफेल के बारे में पूरी जानकारी…

कब भारतीय वायुसेना में शामिल होगा राफेल?

राफेल

जानकारी के लिए बता दें कि भारत फ्रांस से कुल 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीद रहा है, इसी कड़ी में मंगलवार को पहला विमान राजनाथ ने रिसीव कर लिया। हालांकि, ये सिर्फ आधिकारिक हैंडओवर है। फिलहाल अभी ये विमान फ्रांस में ही रहेगा, जहां वायुसेना के जवान इसकी ऑपरेशनल ट्रेनिंग लेंगे।

ये भी पढ़ें— पाकिस्तानी हो क्या! प्रचार के दौरान मंच से इन्होंने कह दी ये बड़ी बात फिर…..

करीब 59 हजार करोड़ रूपये की हुई है डील

36 विमानों में से 4 विमानों की पहली किस्त मई 2020 तक भारत को मिलेंगे। लेकिन इसके बाद भी फरवरी 2021 तक जाकर ये विमान पूरी तरह से ऑपरेशनल होंगे। राफेल विमानों के भारत पहुंचने की डेडलाइन सितंबर, 2022 है। भारत-फ्रांस के बीच हुई इस डील की कीमत करीब 59 हजार करोड़ रुपये की थी।

जानें कहां तैनात होगा राफेल ?

बताया जा रहा है कि जो 36 विमान भारत को मिलने हैं, उनमें से 18 अंबाला एयरबेस और 18 अरुणाचल प्रदेश के आसपास तैनात होंगे। यानी भारत पाकिस्तान और चीन से मिलने वाली चुनौती के लिए हर तरह से तैयार है।

ये भी पढ़ें— डाक दिवस के अवसर पर विभागीय कर्मचारियों द्वारा निकाली गई डाक जागरूकता रैली

राफेल में है कितनी ताकत?

राफेल विमान 4.5 जेनरेशन का लड़ाकू विमान है जो भारतीय वायुसेना में एक तरह से बड़ा बदलाव होगा। इस विमान में 24500 Kg। भार ढोने की क्षमता है, साथ ही विमान के जरिए एक साथ 125 राउंड गोलियां निकलती हैं जो किसी को भी चीर कर रख सकती हैं। इस विमान में भारत के लिए विशेष रूप से दो तरह की मिसाइल लगाई गई हैं, जो हर खतरे को खत्म करने के लिए तैयार हैं।

ये भी पढ़ें— एक ऐसी ट्रेन जो बुझा रही थी लोगों की प्यास, सरकार ने किया बंद