दोस्ती हो तो ऐसी: प्यार देखकर आ जायेंगे आँखों में आंसू, ऐसी हैं इनकी जुगलबंदी

लखनऊ के मवैया इलाके में रहने वाले बिहारी और पप्पू कई सालों से एक साथ रह रहे हैं। दरअसल, पप्पू जोकि दोनों पैरों से विकलांग है और बोल नहीं सकते वहीँ बिहारी जिनके एक पैर की सभी उँगलियाँ कटी हैं । पप्पू ने एक लकड़ी के पटरे की हत्था गाड़ी बनायीं है, जिसमें एक डोर बंधी है और बिहारी उस डोर को थामे रहते हैं।

लखनऊ : दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है जो जात-पांत, ऊंच-नीच और धर्म जाति से परे हैं। आज जब पूरी दुनिया में जब दोस्ती सिर्फ एक दिखावा बनकर रह गयी है, ऐसे में लखनऊ के बिहारी और पप्पू की दोस्ती किसी मिसाल से काम नहीं है। लखनऊ की सड़कों पर जब-जब ये दोनों गुजरते हैं तो आस-पास से गुजरने वाले लोग रुक कर वो दृश्य देखने पर मजदूर हो जाते हैं।

 बिहारी और पप्पू कई सालों से एक साथ रह रहे हैं

लखनऊ के मवैया इलाके में रहने वाले बिहारी और पप्पू कई सालों से एक साथ रह रहे हैं। दरअसल, पप्पू जोकि दोनों पैरों से विकलांग है और बोल नहीं सकते वहीँ बिहारी जिनके एक पैर की सभी उँगलियाँ कटी हैं । पप्पू ने एक लकड़ी के पटरे की हत्था गाड़ी बनायीं है, जिसमें एक डोर बंधी है और बिहारी उस डोर को थामे रहते हैं। खुद बिहारी के एक पैर की सारी उँगलियाँ कटी होने के बावजूद बिहारी उस गाड़ी को खींचते रहते हैं। जहाँ जाते हैं साथ जाते हैं, जो खाते हैं साथ खाते हैं ।

1-दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है जो जात-पांत, ऊंच-नीच और धर्म जाति से परे हैं।

 

 

2- लखनऊ के मवैया इलाके में रहने वाले बिहारी और पप्पू कई सालों से एक साथ रह रहे हैं।

 

 

3-एक दूसरे का सहारा, रहेंगे उम्र भर साथ

 

 

4-पप्पू ने एक लकड़ी के पटरे की हत्था गाड़ी बनायीं है

 

 

ये भी देखें: दिल्लीवासियों को मिलेंगी ये सहूलियतें, पाबंदी हटी लेकिन बॉर्डर सील

दोस्ती का रिश्ता दिल से होता है

यह मर्म स्पर्शी (दिल को छू जाने वाली) तस्वीरें हमारे फोटो जर्नलिस्ट आशुतोष त्रिपाठी जी ने अपने कैमरे में कैद की है और हमारे पोर्टल Newstrack.com के फोटो गैलरी के माध्यम से आप तक पहुंच रही है। इन तस्वीरों को देखकर आपको दोस्ती की गहराईयों का अहसास होगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।