Top

सपाइयों का ये प्रदर्शन देख लोग हैरान, पेट्रोल-डीजल का कर रहे थे विरोध

पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कुछ अलग ढंग से प्रदर्शन करने की ठानी और बाराबंकी के पटेल तिराहे पर टांगा-घोड़ा लेकर पहुंच गए।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 25 Jun 2020 9:19 AM GMT

सपाइयों का ये प्रदर्शन देख लोग हैरान, पेट्रोल-डीजल का कर रहे थे विरोध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी (यूपी): पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कुछ अलग ढंग से प्रदर्शन करने की ठानी और बाराबंकी के पटेल तिराहे पर टांगा-घोड़ा लेकर पहुंच गए। सबकुछ ठीक चल रहा था। जिलाध्यक्ष हाफिज अयाज समेत तमाम सपाई इकट्ठा हुए। सभी के हाथों में सरकार विरोधी नारों वाले बैनर और पोस्टर नजर आ रहे थे। जिलाध्यक्ष के बाद एक-एक करके कई सपाई टांगा-घोड़ा पर चढ़े। लेकिन उन्हें क्या पता था कि यह प्रदर्शन उनपर भारी पड़ने वाला है। हालांकि घोड़े ने कई बार इशारों-इशारों में सपाइयों को समझाया कि अब बस, वह इससे ज्यादा वजन नहीं सह पाएगा। लेकिन जोश से लबरेज सपाई कहां मानने वाले।

ये भी पढ़ें:कर्मचारियों की छंटनी: हजारों की नौकरी पर संकट, अब इस कंपनी ने लिया फैसला

एक-एक कर सपाइयों का हुजूम एक दूसरे का हाथ पकड़कर टांगे पर सवार हो गया। फिर शुरू हुआ नारेबाजी का दौर। सभी नेता सरकार विरोधा नारे लगाने में मस्त थे। नारेबाजी की तेज आवाज में घोड़ा बार-बार सर हिला रहा था। मानो कह रहा हो कि कुछ लोग तो उतर जाओ। लेकिन किसी ने घोड़े का दर्द नहीं समझा और आखिरकार वो हुआ जो सपाइयों को काफी भारी पड़ गया। एकाएक घोड़ा बिदका और जिलाध्यक्ष समेत तमाम सपाई भरभराकर एक के ऊपर एक गिर पड़े। टांगे से गिरने से कई सपाई घायल भी हुए हैं।

ये भी पढ़ें:उत्तराखंड: मुख्यमंत्री 750 बेड की व्यवस्था कराई, कोविड-19 सेंटर का किया निरीक्षण

सपा नेताओं ने कहा कि पिछले 16-17 दिन से पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार वृद्धि की जा रही है। आजादी के बाद पहली बार डीजल और पेट्रोल के दामों में ज्यादा फर्क नहीं रह गया है। पेट्रोल-डीजल दोनों में रेस चल रही है कि किसका दाम ज्यादा बढ़ेगा। सरकार की गलत नीतियों के चलते देश बेहद आर्थिक समस्‍याओं से गुजर रहा है। साधारण लोगों के लिए रोजी-रोटी का संकट आ गया है। दूसरी तरफ सरकार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाकर आम आदमी के जीवन को और मुश्किल बना रही है। किसानों पर भी डीजल की महंगाई भारी पड़ रही है। हाफिज अयाज ने आगे कहा कि कानपुर शेल्टर होम की घटना ने इस देश को शर्मसार किया है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story