×

सोनभद्र कत्लेआम: सामने आई अब ये नई तस्वीर, राजस्व विभाग ने शुरू की जांच

कैलाश,  रामपति, छोटेलाल सहित अन्य कई लोगों ने बताया कि जिस जगह गोली चली वह जमीन हम लोगों के नाम आज भी खतौनी में दर्ज है। एक खेत में भागने के दौरान एक कल्टीवेटर भी छूट गया था, जिस खेत में वह छुटा था उस जमीन का नंबर 17 बताया गया।

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 25 July 2019 6:47 AM GMT

सोनभद्र कत्लेआम: सामने आई अब ये नई तस्वीर, राजस्व विभाग ने शुरू की जांच
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

सोनभद्र: सोनभद्र हत्याकांड में सरकार ने राजस्व विभाग की टीम से अपनी जांच तो शुरू ही करा दी है और सरकार ने कहा कि टीम अपने हिसाब से जांच करने में जुटी है। इन सबके बीच गांववालों से बात करने पर अब इस घटना की एक नई तस्वीर ही देखने को मिल रही है।

सामने आई अब ये नई तस्वीर

गांववालों के अनुसार, सचाई यह है कि यज्ञ दत्त ग्राम प्रधान बैनामा ली गई जमीन को जोतने नहीं बल्कि आदिवासियों की उस पुश्तैनी जमीन पर कब्जा करने के लिए ट्रैक्टरों से धावा बोला था, जो जमीन सन 1951-52 से ही आदिवासियों के नाम है।

यह भी पढ़ें: BJP आज लोकसभा से तीन तलाक बिल पास कराने की तैयारी में, जारी किया व्हिप

कैलाश, रामपति, छोटेलाल सहित अन्य कई लोगों ने बताया कि जिस जगह गोली चली वह जमीन हम लोगों के नाम आज भी खतौनी में दर्ज है। एक खेत में भागने के दौरान एक कल्टीवेटर भी छूट गया था, जिस खेत में वह छुटा था उस जमीन का नंबर 17 बताया गया।

साज़िश थी जो नरसंहार में बदल गयी

ग्रामीणों ने खतौनी दिखाई और बताया कि प्रधान खतौनी नंबर 24 ,17, 20,18, नंबर के खेत में ट्रैक्टरों से जुताई शुरू कर दी और मना करने पर अंधाधुंध गोलियां बरसानी शुरू की जबकि ग्राम प्रधान यज्ञ दत्त ने 48,49,54ग,55,57,77,94,154क नंबर की जमीन बैनामा ली है जो उस जमीन से काफी दूर है।

फिलहाल, मुख्यमंत्री द्वारा गठित टीम जांच के लिए उम्भा गांव में है और राजस्व कर्मियों की टीम की मौजूदगी में नापी का कार्य भी शुरू किया। रिपोर्ट क्या है यह अति गोपनीय रखा गया है, लेकिन ग्रामीणों के दावे तो अब अलग ही कहानी बयां करने लगे है। ऐसा तो नही की सोसायटी की जमीन के आड़ में प्रधान द्वारा दूसरी जमीन हड़पने की साज़िश थी जो एक नरसंहार के रूप में बदल गयी।

ग्रामीणों ने दिखाएं कागजात

बहरहाल, सोनभद्र में हुए हत्याकांड के मामले में राजस्व की टीम पहुंचकर अपनी जांच तो कर ही रही है, लेकिन दूसरी तरफ ग्रामीणों से बात करने पर कुछ नए नए तथ्य भी सामने आ रहे हैं| ग्रामीणों का आरोप है कि चारों तरफ यह खबर आ रही है कि ग्राम प्रधान यज्ञ दत्त आदर्श सोसायटी की जमीन को जोत रहा था या कहें तो कब्जा लेने आया था|

मगर ऐसा नहीं है ग्रामीणों की बात पर यदि भरोसा की जाए तो उसके मुताबिक जिस भूमि पर विवाद हुआ या यज्ञ दत्त द्वारा ट्रैक्टर से जो ताजा रहा था, वह जमीन आदर्श सोसायटी की है ही नहीं| इस संबंध में ग्रामीणों ने अपने कागजात भी दिखाएं|

यह भी पढ़ें: कर्नाटक पर सियासत तेज: दिल्ली पहुंचे बीजेपी नेता, आज होगा सीएम को लेकर महामंथन

हालांकि, यह कागजात कितने सही और पूर्ण है इससे सिद्ध नहीं किया जा सकता क्योंकि प्रशासन के मुताबिक पुराने रिकॉर्ड खुद सरकार के पास मौजूद नहीं है। ऐसे में अटकलें यह भी लगाई जा रही है कि ग्राम प्रधान को कहि किसी सत्ता का संरक्षण तो नही प्राप्त था।

सोनभद्र: तीन सीओ व चार इंस्पेक्टरों से हो रही पूछताछ

इस जांच से संबंधित पूछताछ के लिए अक्टूबर 2017 से लेकर अब तक तैनात रहे एक दर्जन पुलिस अधिकारियों और कर्मियों को चिन्हित किया गया है। इन सबका बयान एडीजी जोन के यहां दर्ज कराया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: OMG! 26 वर्षीय महिला के पेट में 1.5 किलोग्राम से अधिक गहने

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story