कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर सपाईयों ने ऐसे किया याद

समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय पर कर्मयोगी जननायक स्व. कर्पूरी ठाकुर का जन्मदिवस निवर्तमान जिलाध्यक्ष लाल बहादुर यादव की अध्यक्षता में मनाया गया।

जौनपुर। समाजवादी पार्टी के जिला कार्यालय पर कर्मयोगी जननायक स्व. कर्पूरी ठाकुर का जन्मदिवस निवर्तमान जिलाध्यक्ष लाल बहादुर यादव की अध्यक्षता में मनाया गया। इस मौके पर यादव ने उनकी जीवनी पर चर्चा करते हुए कहा कि वे ऐसे महान नेता थे जिनको कर्मयोगी जननायक कहा गया।

ये भी पढ़ें-अखिलेश ने BJP पर साधा निशाना, योगी सरकार की गंगा यात्रा पर उठाये सवाल

वे देश के पहले अति पिछड़े मुख्यमंत्री हुये जिन्होंने पूरा जीवन शोषित एवं वंचित की लड़ाई लड़ते रहे। वे जन्म तो बिहार में लिये लेकिन गरीबी होने के बाद भी वे अपनी शिक्षा पूर्ण किये। साथ ही आजादी की लड़ाई में वे कई बार जेल गये लेकिन जब देश आजाद हुआ जो वास्तविक आजादी के लिये उनको लड़ना पड़ा।

कर्पूरी ठाकुर  देश में  समानता की आजादी लड़ी थी

यादव ने बताया कि कर्पूरी ठाकुर को देश समानता की भी आजादी चाहिये थी, इसलिये आजादी के बाद भी आजादी के लिये लड़ाई शुरू किये। पहली बार वे वर्ष 1952 में विधायक चुने गये जिसके बाद भी लड़ाई जारी रही। वे उपमुख्यमंत्री हुये और दो बार बिहार के मुख्यमंत्री रहे। उनके द्वारा किये गये कार्य से पूरे देश में कमजोर लोगों को लाभ हुआ था।

आज जो पिछड़ों को आरक्षण मिला है, उन्हीं की देन थी। उस समय पिछड़ों व दलितों की स्थिति बहुत ही नाजुक थी जिसको लेकर उन्होंने तमाम अपमान एवं विरोध झेलने के बाद आरक्षण लागू करने का काम किया। इतने महत्वपूर्ण पदों पर रहने के बाद भी उनके पास न गाड़ी थी और न ही मकान था।

कर्पूरी ठाकुर बिहार के नहीं बल्कि पूरे देश के नेता थे

वे बहुत ही ईमानदार थे जो हमेशा कहते थे कि समाज के जब तक कमजोर, दबे, कुचले को न्याय नहीं दिला देता हूं, जीवन भर ऐसे ही संघर्ष करता रहूंगा। इसी क्रम में जिला उपाध्यक्ष राजनाथ यादव ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर बिहार के नहीं, बल्कि पूरे देश के नेता थे।

जिस तरह उनका जीवन संघर्ष के कोख से जन्म लिया है, उस समय जहां कुछ जातियों का ही बोलबाला था, वहीं कर्पूरी ठाकुर ने अति पिछड़ा समाज में जन्म लेने के बाद भी कितने यातनाएं व जलालत झेलने के बाद भी से कभी भी झूके नहीं। आज हम लोग उनके ऐसे महापुरूषों विचारों और सिद्धांत पर चलकर ही देश समाजवाद लाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें- पंजाबः अब नहीं चलेंगे 15 साल पुराने थ्री-व्हीलर्स, सरकार कराएगी रिप्लेस

इस अवसर पर मुख्य रूप से पूर्व विधायक गुलाब चन्द सरोज सहित यशवंता यादव, श्याम बहादुर पाल, निवर्तमान जिला प्रवक्ता राहुल त्रिपाठी, रूखसार अहमद, राजन यादव, डा. लक्ष्मीकान्त यादव, नन्द लाल यादव, पूनम मौर्या, शिवजीत यादव, राकेश यादव, डा. ईश्वर लाल यादव, संघर्ष यादव, आरिफ हबीब, विकास यादव, राजदेव यादव, प्रिंसू यादव, रिजवान हैदर, प्रदीप शर्मा, लाल बहादुर यादव, धर्मेन्द्र सोनकर सहित तमाम लोग उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन निवर्तमान जिला महासचिव हिसामुद्दीन शाह ने किया।