अखिलेश ने BJP पर साधा निशाना, योगी सरकार की गंगा यात्रा पर उठाये सवाल

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की भाषा को स्तरहीन करार देते हुए कहा कि राजनीति में भाषा में ऐसी गिरावट चिंता जनक है।

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की भाषा को स्तरहीन करार देते हुए कहा कि राजनीति में भाषा में ऐसी गिरावट चिंता जनक है। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं में कोई कहता है डंके की चोट पर, कोई कहता है बदला लेंगे, कोई जबान खींच लेने तो कोई ठोक दो बोल रहा है। अखिलेश ने कहा कि समाजवादी ऐसी भाषा नहीं बोलते हैं, बड़े अस्पताल, बड़े शिक्षा संस्थान की बातें करते है।

समाजवादी पार्टी प्रदेश मुख्यालय में शुक्रवार को कर्पूरी ठाकुर की 96वीं जयंती पर आयोजित श्रद्धाजंलि सभा में अखिलेश यादव ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर ने हमेशा गरीबों और पिछड़ों के सम्मान और अधिकारों की लड़ाई लड़ी। उनका बचपन घोर गरीबी में बीता इस कारण वे विधायक और मंत्री रहते हुए अपना वेतन गरीबों के दुखदर्द में बांट देते थे।

उन्होंने राजनीति में अनेक लोगों को प्रेरित किया और पिछड़ों को जगाने का काम किया। उनके रास्ते पर चलकर ही हम आगे बढ़ सकते हैं। सपा मुखिया ने कहा कि डाॅ लोहिया ने नारा दिया था कि ‘सोशलिस्टों ने बांधी गांठ-सौ में पावें पिछड़े साठ’ और कर्पूरी ठाकुर ने इसे पूरा करने का भरसक प्रयास किया, लेकिन आज भी पिछड़ों को अधूरा लाभ मिला है।

यह भी पढ़ें…महाराष्ट्र में घमासान! अब फोन टैपिंग में सरकार परेशान, जानें क्या है मामला

उन्होंने जातिगत जनगणना की मांग दोहराते हुए कहा कि अगर सही से जनगणना में जातियों की भी गणना हो जाए तो हिन्दू-मुस्लिम का झगड़ा समाप्त हो जाएगा और हरेक समाज की भागीदारी भी तय हो जाएगी। लेकिन सरकार तो इसके आंकड़े ही सामने नहीं लाना चाहती है।

यह भी पढ़ें…खतरनाक वायरस की भारत में दस्तक! जानिए क्या हैं इसके लक्षण, ऐसे करें बचाव

अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार ने विकास नहीं किया इसलिए वह ध्यान बंटाने को तमाम आयोजनों पर करोड़ों रूपए फूंक रही है। धर्मजाति के नाम पर फूट डाल रहे हैं। उन्होंने कहा गंगा यात्रा पर रथ निकालने का क्या मतलब है? करोड़ों रुपए गंगा की सफाई पर फूंक दिए गए लेकिन गंगा आज भी मैली हैं। पांच साल से नमामि गंगे का नाटक हो रहा है। उन्होंने जब तक गंगा में मिलने वाली नदियां और काली नदी साफ नहीं होती तब तक गंगा साफ नहीं हो पाएगी।

यह भी पढ़ें…महाराष्ट्र में घमासान! अब फोन टैपिंग में सरकार परेशान, जानें क्या है मामला

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार से किसान, नौजवान, व्यापारी, छात्र सभी परेशान हैं। किसान का न तो कर्ज माफ हुआ, न ही आय दुगनी हुई नतीजा किसान आत्महत्या करने को विवश हैं। नौजवान बेरोजगारी से त्रस्त हैं, युवा आंदोलनरत है। सबको अपनी नागरिकता साबित करनी होगी। देश भर में सीएए के खिलाफ जनता आंदोलनरत है। महिलाएं दिन-रात प्रदर्शन कर रही है लेकिन सरकार के कानों में जूं नहीं रेंग रही है वह संवेदनहीन बनी हुई है।