Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

नगीना से सपा विधायक मनोज पारसः राजनीति में न आते तो आईएएस होते

विधायक ने कहा विधायक निधि का सही इस्तेमाल करे तो मददगार है। निधि नहीं होगी तो हम समस्या हल नहीं कर पायेंगे। विधायक निधि 2.5 करोड़ से बढ़ाकर 8 से 9 करोड़ कर देनी चाहिए जिससे क्षेत्र का ओर विकास कराया जा सके। 

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 13 Oct 2020 8:08 AM GMT

नगीना से सपा विधायक मनोज पारसः राजनीति में न आते तो आईएएस होते
X
SP MLA from Nagina Manoj Paras: would have been an IAS if had not joined politics
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

योगेन्द्र शर्मा

बिजनौर की नगीना विधानसभा से विधायक मनोज पारस का कहना है कि राजनीति में नहीं आते तो आर्मी ऑफिसर या आईएएस बनकर समाज की सेवा करते। बिजनौर के नगीना क्षेत्र के ग्राम बिन्जाहेड़ी निवासी मनोज अमर सिंह रवि के पुत्र हैं।

न्यूजट्रैक से बातचीत में वह कहते हैं कि लगातार चुनाव महंगे होने का कारण विज्ञापन, मीडिया है। इसको चुनाव आयोग चुनाव के खर्चों पर रोक लगाकर रोक सकता है। वह कहते हैं कि चुनाव सुधार के लिए सत्ता पार्टी द्वारा बड़ा बजट बनाकर चुनाव प्रचार करने रोक लगनी चाहिए।

जनता जागरुक हो

विधायक कहते हैं जनता की अपेक्षा से हमें कोई दिक्कत नहीं। जनता को यह नहीं पता होता कौन सा काम विधायक, प्रधान, एमपी को करना है इसलिए उनमें जागरूकता लानी जरूरी है।

मनोज पारस कहते हैं मेरा अपना खुशी का पल तब आया जब मैं पहली बार विधायक चुना गया और मंत्री बना यही जनता से शेयर करना चाहूंगा। मेरा दुख का समय जब मेरे पिता हमें छोड़कर चले गये वे स्वयं मुझे मंत्री बनता ना देख सके।

SAPA MLA Manoj Paras with Akhilesh

वह कहते हैं राजनीति के बाद समय नहीं मिल पाता क्योंकि मोबाईल पर रात को 12 बजे तक क्षेत्रीय जनता के फोन आते रहतें है फिर भी यदि समय मिलता है तो मॉर्निंग वॉक या पुस्तकें पढ़ने का शौक है।

राजनीति में बदलाव के संबंध में मेरा यह कहना है कि 1993 से 2020 तक दो चुनाव जीते और दो चुनाव हारे। राजनीति बड़ी कठिन है पहले विधायक आठ या दस बार जीतते थे। अब केवल एक बार ही जीत पाते हैं।

कार्यकर्ताओं की अहमियत घटी

वह कहते हैं क्षेत्र की जनता ये चाहती है कि विधायक कहीं से कमाये और खर्च उस पर करे, पैसे वाले लोग राजनीति में आ रहें हैं। आईएएस, पीसीएस भी विधायक बन रहे हैं, इससे कार्यकर्ताओं की अहमियत कम हुई है।

विधायक कहते हैं दलबदल हमारी नजर में सबसे गलत है। आपकी सोच व निष्ठा अपने नेता में होनी चाहिए दलबदल पर रोक लगनी चाहिए, हमने जनता दल से राजनिति शुरू की उसके बाद से समाजवादी पार्टी में ही हमेशा निष्ठा रखेंगें।

मनोज पारस ने आरोप लगाया कि राजनीति के लोकतंत्र की भाजपा लगातार हत्या कर रही है जिससे लोकतंत्र खत्म हो रहा है।

कराए ये काम

उन्होंने कहा कि विधायक के तौर पर क्षेत्र में 12 पुलों का निर्माण, क्षेत्र में लो वोल्टेज के लिए ट्रांसफार्मर रखवाना बिजली को 8 घंटे से बढ़ाकर 18 घंटे कराना। कोतवाली का अलग फीडर बनाना, किरतपुर को स्वाहेड़ी बिजली घर से जुड़वाना, नगीना में एडीजे कोर्ट, गर्ल्स कालेज, आईटीआई कालेज तथा सभी सड़कों को ठीक कराया।

SAPA MLA Manoj Paras with supportors

विधायक ने कहा विधायक निधि का सही इस्तेमाल करे तो मददगार है। निधि नहीं होगी तो हम समस्या हल नहीं कर पायेंगे। विधायक निधि 2.5 करोड़ से बढ़ाकर 8 से 9 करोड़ कर देनी चाहिए जिससे क्षेत्र का ओर विकास कराया जा सके।

मनोज पारस ने कहा क्षेत्र की समस्या को दूर करने के लिए फैक्ट्रियों का निर्माण होना चाहिए, पलान्ट लगने चाहिए ताकि लोगों को रोजगार मिल सके। इसलिए बन्द कताई मिल को चलवाने का प्रयास कर रहा हूँ।

इसे भी पढ़ें चांदपुर से भाजपा विधायक कमलेश सैनीः राजनीति में न आतीं तो समाजसेवा करतीं

उन्होंने कहा कि खामियों के लिए नौकरशाही को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते व रोड़े भी नहीं अटकाती है यह आदमी, आदमी पर निर्भर करता है बहुत से अधिकारी बहुत मददगार साबित होते हैं।

Newstrack

Newstrack

Next Story