शहीद को श्रद्धांजलि: डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा पहुंचे घर, परिवार से की मुलाकात

सूबे के डिप्टी सीएम और जिले के प्रभारी मंत्री डा. दिनेश शर्मा मंगलवार को कानपुर कांड में शहीद हुए दरोगा महेश यादव के सरेनी थाना अन्तर्गत पैतृक गांव वनपुरवा पहुंचे

रायबरेली: सूबे के डिप्टी सीएम और जिले के प्रभारी मंत्री डा. दिनेश शर्मा मंगलवार को कानपुर कांड में शहीद हुए दरोगा महेश यादव के सरेनी थाना अन्तर्गत पैतृक गांव वनपुरवा पहुंचे। यहां शहीद को श्रध्दांजलि देकर उन्होंने परिवार को ढाढस बंधवाया। मीडिया से बात करते हुए डिप्टी सीएम ने कहा कि गैंगेस्टर विनय दुबे के साथ जो-जो लोग भी संलग्न थे या उसके सहयोगी थे उन तक पुलिस के हाथ जल्दी पहुंचेगे। चाहे पुलिस का हो, सिविल का हो या कोई अन्य वो दंडित होगा। वही शहीद महेश के बेटे ने सीबीआई जांच की मांग किया है।

ये भी पढ़ें:योगी का खास प्रोजेक्टः डॉ. चौधरी को मिली बड़ी जिम्मेदारी, जीव जंतुओं के हैं विशेषज्ञ

मीडिया से बात करते हुए डिप्टी सीएम ने आगे कहा

मीडिया से बात करते हुए डिप्टी सीएम ने आगे कहा कि, सरकार पूरे प्रदेश में एक बहुत बड़ा सघन अभियान चलाया है पूरे प्रदेश में, और ये (विनय दुबे) कैसे बचा रहा ये एक जांच का विषय है। सरकार इसकी जांच भी कर रही है और उसका पीछा भी कर रही है जल्द ही वो शिकंजा में होगा। सभी पहलुओ की वृहद जांच चल रही है। एसटीएफ इसकी जांच कर रही है मुझे लगता है जल्द ही वो अपने अंतिम मुकाम पर पहुंचेगे।

कानपुर कांड को किया याद

दिनेश शर्मा ने कहा कि कानपुर में एक वीभत्स हत्याकांड हुआ जिसमें हमारे 8 पुलिस वाले शहीद हुए थे, उसमे से एक हमारे महेश यादव जी भी शहीद हुए थे। उनके परिजनो के लिए मुख्यमंत्री ने एक करोड़ रुपए भेजे हैं। जिसमे उनके पिता को और 80 लाख रुपए उनकी पत्नी को भेजा गया। इसके अलावा पत्नी को पेंशन और परिवार में एक नौकरी के लिए कहा है।

ये भी पढ़ेंकांग्रेसी हुए गिरफ्तार: दलित उत्पीड़न के खिलाफ कर रहे थे प्रदर्शन, पुलिस ने भेजा जेल

परिजनो का कहना है कि बेटा अभी पढ़ना चाहता है इसलिए उसे एक-दो साल का अवसर मिलना चाहिए। जिलाधिकारी को हमने कह दिया है कि उसे अवसर मिले जिससे वो अपनी पढ़ाई पूरी करके आगे नौकरी पा सके। प्रमाण पत्र दीया उधर बेटे विवेक ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हमने डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा से कहा कि आप जानते हैं कि अपराधी के साथ कई नेता और बड़े अफसरों का भी नाम शामिल है, तो हमे प्रशासन की जांच पर भरोसा नही है। हमने सीबीआई जांच की मांग की है, ताकि दुबारा किसी पुलिस वाले के साथ ऐसी घटना नही हो सके। उन्होंने सीबीआई जांच के आश्वासन दिए हैं।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App