सब्सिडी भेजी जा रही भरपूर, लेकिन घरेलू गैस सिलेंडर नहीं भरा रहे लोग

देश के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जरूरतमंदों और असहाय लोगों की मदद में कोई कसर नही छोड़ रहे, लेकिन फिर भी योजनाओं के लाभार्थी लीक से हटकर योजनाओं का रुपया खर्च करने में जुटे हैं। ऐसी ही एक योजना है प्रधानमंत्री उज्जवला।

कन्नौज: देश के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जरूरतमंदों और असहाय लोगों की मदद में कोई कसर नही छोड़ रहे, लेकिन फिर भी योजनाओं के लाभार्थी लीक से हटकर योजनाओं का रुपया खर्च करने में जुटे हैं। ऐसी ही एक योजना है प्रधानमंत्री उज्जवला। शुरुआत में इसके कनेक्शन फ्री में बांटे गए थे। अब लॉकडाउन की वजह से फ्री में ही सिलेंडर भरने की योजना चल रही है, लेकिन लाभार्थी फ्री की गैस लेने में भी पीछे हैं।

गैस भराने का रुपया लाभार्थियों के बैंक खातों में भेज दिया गया है, लेकिन फिर भी करीब एक लाख लोगों ने घरेलू सिलेंडर नहीं भराया है। माना जा रहा है कि लोगों को खाना बनाते समय अपनी आंखों व आराम से मतलब नहीं है, नगदी से ही प्यार है। इसलिए खातों से रुपए निकाल कर कहीं और खर्च कर लिए होंगे।

यह भी पढ़ें…कोरोना का आखिरी समय करीब, जैसे जैसे ये काम होगा, हो जाएगा गायब

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्जवला योजना के कनेक्शनधारकों के लिए गैस भराने के लिए बैंक खातों में रुपए भेजने की अप्रैल में शुरुआत कर दी थी, जो जारी है। सिलेंडर जितने में भरता है, उतना रुपया लाभार्थियों के खातों में भेज दिया गया ताकि लॉकडाउन में घर बैठे आराम से गैस सिलेंडर-चूल्हा पर खाना बना सकें। यूपी के जनपद कन्नौज में करीब 1.45 लाख उज्जवला योजना के लाभार्थी हैं। जिला पूर्ति विभाग की माने तो 26 अप्रैल तक 98 फीसदी लाभार्थियों के खातों में सब्सिडी भेज दी गई। फिर भी करीब 44 हजार लाभार्थियों ने ही गैस भराई।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन: पुलिस ने बुजुर्ग को चलवाई मेंढक की चाल, वीडियो वायरल, जांच के आदेश

कहा जा रहा है कि अन्य लोगों ने सब्सिडी या तो कहीं और खर्च कर ली या फिर बैंक से रुपए निकाल कर घर पर रख लिए। बैंक शाखाओं में लग रही भीड़ ये साबित करने के लिए काफी है कि केंद्र सरकार की ओर से कई योजनाओं का भेजा जा रहा बजट का धन निकालने में आगे है। भले ही वह उस मद में खर्च न कर रहे हों, जिसके लिए रुपया दिया जा रहा हो। साथ ही जनधन बैंक खातों में आ रहे हर महीने 500-500 रुपए और श्रम विभाग में पंजीकृत लोगों को एक-एक हजार का भी लाभ मिल रहा है। ये धनराशि निकालने वालों की भीड़ भी बैंक शाखाओं में लगी है।

यह भी पढ़ें…कपूर खानदान का ‘चिंटू’ आखिर कैसे बन गया बॉलीवुड का ‘ऋषि’, यहां जानें

क्या बोले डीएसओ

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के लाभार्थी धीरे-धीरे गैस सिलेंडर भरा रहे हैं। जिनके पास एक सिलेंडर है, खाली होने पर ही भरा सकेंगे। करीब 98 फीसदी कनेक्शनधारकों के खातों में रुपया पहुंच गया है, अगर गैस न भराई तो अगले महीने लाभ नहीं मिलेगा। उन्होंने बताया करीब 44 हजार लोगों ने सिलेंडर भराये हैं।

रिपोर्ट: अजय मिश्रा

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App