मंथन में सूर्य प्रताप शाही ने दिया किसानों की आमदनी बढ़ाने का रोडमैप

कृषि मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश के 18 मण्डल मुख्यालयों को मॉडल जनपद के रूप में विकसित किया जाना है। उन्होंने कहा कि इन जनपदों की स्थानीय कृषि उत्पादों के आधार पर ब्राण्डिंग की जाए। इससे जहां एक ओर बाजार स्वयं किसान के दरवाजे पर पहुंचेगा, वहीं दूसरी ओर उसकी आय में भी वृद्धि संभव होगी। श्री शाही ने कहा कि इस कार्य क्रम का मुख्य उद्देश्य कृषि क्षेत्र के विकास के साथ-साथ किसानों की आय में वृद्धि करना है।

लखनऊ: कृषि मंत्री, सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि कृषि एवं सभी सम्बद्ध विभागों द्वारा कृषि क्षेत्र के विकास एवं किसानों की आय वृद्धि हेतु आगामी 02 वर्ष के लिए तैयार किये गये लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु रोडमैप तैयार किया जाये। श्री शाही आज विधान भवन स्थित एपीसी सभागार में आयोजित मंथन कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में प्रदेश के जलशक्ति मंत्री, डॉ. महेन्द्र सिंह एवं सहकारिता मंत्री, मुकुट बिहारी वर्मा उपस्थित थे।

18 मण्डल मुख्यालय मॉडल जनपद

सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश के 18 मण्डल मुख्यालयों को मॉडल जनपद के रूप में विकसित किया जाना है। उन्होंने कहा कि इन जनपदों की स्थानीय कृषि उत्पादों के आधार पर ब्राण्डिंग की जाए।

इसे भी पढ़ें

AMU छात्र नेताओं पर लगेगा गुंडा एक्ट! कड़े एक्शन में योगी सरकार

इससे जहां एक ओर बाजार स्वयं किसान के दरवाजे पर पहुंचेगा, वहीं दूसरी ओर उसकी आय में भी वृद्धि संभव होगी। श्री शाही ने कहा कि इस कार्य क्रम का मुख्य उद्देश्य कृषि क्षेत्र के विकास के साथ-साथ किसानों की आय में वृद्धि करना है। किसानों की आय में वृद्धि के लिए उत्पादन में बढोत्तरी एवं कृषि क्षेत्र के विस्तार के साथ-साथ कृषि विविधीकरण भी अत्यंत आवश्यक है।

200 बिंदुओं पर संकेतक तैयार

बैठक में मंत्रीगणों को बताया गया कि कृषि क्षेत्र के विकास हेतु कृषि एवं सम्बद्ध विभागों द्वारा 20 बिन्दुओं पर संकेतक तैयार किये गये हैं। सहकारिता मंत्री द्वारा सहकारी समितियों के सुदृढ़ीकरण एवं भण्डारण क्षमता के विकास को भी संकेतक के रूप में सम्मिलित किये जाने का सुझाव दिया गया।

इसे भी पढ़ें

‘गंगा यात्रा’ को अर्थ-गंगा से जोड़ा जाएगा: योगी आदित्यनाथ

बैठक में प्रमुख सचिव कृषि, अमित मोहन प्रसाद, कृषि निदेशक, मण्डी निदेशक सहित उद्यान विभाग, पशुपालन विभाग, मत्स्य पालन, सहकारिता विभाग आदि के अधिकारीगण उपस्थित रहे।