UP: प्रशासन ने यहां पर जमातियों के लगाए पोस्टर, लोगों से की ये अपील

उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बड़ौत कोतवाली क्षेत्र में रुके हुए दो बिहार के जमातियों में कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया है। दोनों जमातियों को कल ही क्वारंटाइन कर दिया है।

बागपत: उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बड़ौत कोतवाली क्षेत्र में रुके हुए दो बिहार के जमातियों में कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया है। दोनों जमातियों को कल ही क्वारंटाइन कर दिया है, लेकिन बागपत पुलिस और प्रशासन ने ऐतिहात के तौर पर ओसिक्का व बड़ौत कोतवाली क्षेत्र में तबलीगी जमातियों के जगह-जगह पोस्टर चस्पा कराए हैं। सभी लोगों से अपील की गई है कि इनके चेहरे पहचान लें और इन दोनों जमातियों के सम्पर्क में आए हैं तो स्वास्थ विभाग से सम्पर्क करें।

इसके साथ ही अपील में कहा गया है कि आपकी सेहत का सवाल है इसलिए बागपत प्रशासन को बिना किसी भय के सूचित करें। ये दोनों जमाती दिल्ली की निजामुद्दीन तबलीगी जमात से आकर बागपत की बड़ौत फूस वाली मस्जिद में एक रात ठहरे थे और मस्जिद में उन्होंने लोगो से मुलाकात भी की थी। इसके बाद ये बड़ौत क्षेत्र के ओसिक्का गांव में जाकर रुके थे।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन का फायदा उठा कर गांव में घुसा तेंदुआ, ग्रामीणों पर किया हमला

ऐतिहात के तौर बागपत स्वास्थ विभाग की टीम ने रविवार को बड़ौत के ओसिक्का गांव में जाकर डोर-टू-डोर सर्वे किया है। पूरे गॉव में फायर ब्रिगेड की गाड़ी के द्वारा स्वास्थ विभाग की टीम ने सेनेटाइज़ कराया है।

यह भी पढ़ें…बैसाखी पर कोरोना का ग्रहण: इस बार स्वर्ण मंदिर का बदला नजारा, ऐसे मनाएंगे पर्व

पोस्टर लगाने के पीछे का मकसद यह है कि लोग इन्हें पहचान सके कि ये उनके पास आये थे या लोग इनसे मिले थे, क्योंकि बड़ी संख्या में बागपत में भी जमाती छिपकर रह रहे थे।

यह भी पढ़ें…दिग्गज कांग्रेस नेता का निधन, पार्टी में शोक की लहर

बता दें कि बागपत में शनिवार को ही दो बिहार के जमातियों में कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई थी और अब कोरोना पॉजिटिव मरीजो की संख्या बढ़कर 7 हो चुकी है और इनमें 6 जमाती शामिल हैं। सबसे पहले कोरोना पॉजिटिव मिला युवक दुबई से बागपत लौटा था और अब उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। तो वहीं बाकी 6 जमातियों को क्वारंटाइन के लिए आईसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया हौ और पूरे गांव में युद्धस्तर पर सेनेटाइज़ का कार्य किया गया।

रिपोर्ट: पारस जैन