मसीहा बना ये इंसान: मजदूरों के लिये कर दिया ये काम, खूब हो रही तारीफ

विदेशी धरती दुबई व अबुधाबी में फंसे भारतीय कामगारों के लिए बलिया जिले के निवासी उद्योगपति निवेशक श्याम नारायण यादव रहनुमा बनकर उभरे हैं ।

बलिया। विदेशी धरती दुबई व अबुधाबी में फंसे भारतीय कामगारों के लिए बलिया जिले के निवासी उद्योगपति निवेशक श्याम नारायण यादव रहनुमा बनकर उभरे हैं । इनके प्रयास से विदेशों में फंसे 189 यात्रियों का जत्था गुरुवार को विशेष विमान से लखनऊ पहुंच गया । कौन कहता हैं कि आसमाँ में सुराख नही हो सकता ,एक पत्थर तो उछाल कर देखो , इस उक्ति को बलिया जिले के उभांव थाना क्षेत्र के चंदायर कला ग्राम के श्याम नारायण यादव ने चरितार्थ कर दिया है ।

ये भी पढ़ें…मजबूर मजदूर से बोले अधिकारी- नहीं मिल रहा खाना तो कूद जाओ ट्रेन से…

189 लोगों के वतन लौटने का मार्ग

अबुधाबी में रिलायंस गल्फ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सह प्रबंध निदेशक यादव ने वैश्विक महामारी कोरोना की विभीषिका के मध्य अबुधाबी व दुबई में फंसे भारतीय कामगारों के स्वदेश लौटने को लेकर सार्थक पहल किया है ।

उन्होंने स्वयं सारा खर्च वहन करते हुए एक चार्टर्ड प्लेन किराये पर लिया तथा पहले खेप में उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों के रहने वाले 189 लोगों के वतन लौटने का मार्ग प्रशस्त किया ।

लखनऊ एयरपोर्ट पर गुरुवार को यह विमान पहुँच गया । स्वदेश लौटने पर विदेशी धरती पर फंसे भारतीय कामगारों के चेहरे खुशी से दमक उठे ।

कामगारों के वतन वापसी

रिलायंस गल्फ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सह प्रबंध निदेशक यादव की योजना अगले कुछ दिनों में दुबई में फंसे बिहार के रहने वाले लोगों को वतन लौटाने की है । उन्होंने जानकारी दी कि वह देश के अन्य राज्यों के विदेश में फंसे हुए कामगारों के वतन वापसी का भी काम करेंगे ।

ये भी पढ़ें…चीन भिखारी हो जाएगा: सभी देश मिलकर करने जा रहे ऐसा, ड्रैगन की हालत खराब

उन्होंने भारतीय दूतावास के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रति विशेष आभार प्रकट किया है । उन्होंने कहा कि देश के लिये उनको कुछ करने का अवसर मिला , उनके लिए इससे बड़ी फख्र की बात कुछ और नही हो सकती ।

चुनौतियों का सामना करने में आनन्द

महत्वपूर्ण है कि एक किसान परिवार से अपने विकास की यात्रा शुरू करने वाले स्नातक श्याम नारायण के पिता राम राज यादव मुख्य रूप से किसान हैं । डी ए वी इंटर कालेज , बिल्थरारोड से वर्ष 1994 में उत्तीर्ण श्याम नारायण यादव कहते हैं कि वह चुनौतियों का सामना करने में आनन्द की अनुभूति करते हैं ।

एक इंटर कॉलेज में शिक्षक आनन्द यादव कहते हैं कि स्वभाव से जुझारू श्याम नारायण यादव सामाजिक व मानवीय सेवा के लिये हमेशा तत्पर रहते हैं । वह कहते हैं कि बलिया जिले का गौरवशाली इतिहास है तथा श्याम नारायण ने इस गौरवशाली इतिहास में एक सुनहरा पन्ना जोड़ने का काम किया है ।

ये भी पढ़ें…चीन भिखारी हो जाएगा: सभी देश मिलकर करने जा रहे ऐसा, ड्रैगन की हालत खराब

रिपोर्ट- अनूप कुमार हेमकर