Top

उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा/साजिश: यहां जानें इससे जुड़े 5 तथ्य

इस हादसे ने अब राजनीतिक रूप ले लिया है। उन्नाव रेप केस में पीड़िता के परिजन सड़क हादसे को साजिश बता रहे हैं तो वहीं पुलिस और सीबीआई कुछ भी बोलने से बच रही है।

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 29 July 2019 7:38 AM GMT

उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा/साजिश: यहां जानें इससे जुड़े 5 तथ्य
X
उन्नाव रेप केस सड़क हादसा/साजिश: यहां जानें इससे जुड़े 5 तथ्य
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के रायबरेली में रविवार को एक सड़क दुर्घटना में उन्नाव रेप पीड़िता, वकील और कार ड्राइवर गंभीर रूप से घायल हो गये, जबकि इस हादसे में पीड़िता की चाची और उसकी मौसी दोनों की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप केस: योगी सरकार CBI जांच के लिए तैयार, फरार हुए विधायक के परिजन

हादसे के बाद उन्नाव रेप केस की पीड़िता लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती है लेकिन उनकी हालत काफी नाजुक है। पीड़िता और वकील को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया गया है। उनकी कई हड्डियां टूट गई हैं और सिर पर भी काफी चोट आई है।

यह भी पढ़ें: ‘जय श्री राम’ न बोलना मुस्लिम किशोर को पड़ा भारी, 4 लोगों ने लगाई आग

इस हादसे ने अब राजनीतिक रूप ले लिया है। उन्नाव रेप केस में पीड़िता के परिजन सड़क हादसे को साजिश बता रहे हैं तो वहीं पुलिस और सीबीआई कुछ भी बोलने से बच रही है। हाईप्रोफाइल मामला होने के कारण पुलिस और फॉरेंसिक की टीमें कई बार घटनास्थल का निरीक्षण कर चुकी हैं।

यहां जानें उन्नाव रेप कांड और हादसे से जुड़े तथ्य

  • पीड़ित परिवार के साथ 10 सुरक्षाकर्मी जो हमेशा रहते थे, वह आज क्यो नहीं थे। ट्रक के नंबर पर काला पेंट क्यों चढ़ाया गया?
  • ट्रक तेज़ गति और उल्टी दिशा में क्यों आ रहा था? रायबरेली जेल से निकलने के बाद पीड़िता की कार की रेकी किसने की?
  • जेल मिलने गया पीड़ित परिवार, यह जानकारी आरोपी विधायक के परिजनों को किसने दी रास्ते मे वो कौन से शख्श थे, जिन्होंने पीड़ित के कर चालक से रास्ता पूछा था?

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप केस: सवालों के घेरे में प्रशासन और CBI, तेज हो रही कार्रवाई की मांग

  • हादसे की सूचना देने के बावजूद पुलिस देर से क्यों पहुंची? जबकि घटनास्थल से थाने की दूरी मात्र 10-15 मिनट की है।
  • ट्रक के नंबर से पता चलता है कि ट्रक हाल ही ट्रांसफर किया गया है। ट्रक देवेंद्र किशोर नाम के व्यक्ति के नाम रजिस्टर्ड है, इससे पहले ट्रक किसके नाम खरीदा गया था?

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story