×

उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा/साजिश: परिवार अगर चाहे तो CBI जांच के लिए तैयार

पुलिस को दिए बयान में ड्राइवर आशीष कुमार पाल ने बताया है कि बांदा में उसने रात 12 से 1 बजे के बीच 28000 रुपए से मोरंग खरीद कर ट्रक में भरा। जिसे रायबरेली में 37000 रुपए में सुबह करीब 10 बजे बेच दिया।

Manali Rastogi
Updated on: 29 July 2019 9:30 AM GMT
उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा/साजिश: परिवार अगर चाहे तो CBI जांच के लिए तैयार
X
उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा/साजिश: परिवार अगर चाहे तो CBI जांच के लिए तैयार
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: रायबरेली के थाना माखी के पास उन्नाव रेप पीड़िता की कार दुर्घटना के मामले को लेकर सोमवार को लखनऊ जोन के एडीजी राजीव कृष्ण ने कहा है कि पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ट्रक के मालिक, चालक और क्लीनर को गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें: हाईप्रोफाइल रेप/सेक्स स्कैंडल: यहां जानें A to Z

दोनों ही गाड़ियों की फॉरेंसिक जांच के आदेश दिए गए हैं। ट्रक चालक, क्लीनर और ट्रक मालिक के मोबाइल की काल डिटेल निकलवा कर जांच की जा रही है। जेल में बंद उन्नाव रेप मामले के वादी महेश सिंह ने तहरीर दी है। जिस पर मुकदमा पंजीकृत किया गया है। उन्होंने कहा कि पीड़िता का परिवार अगर चाहेगा तो सरकार इस मामले की सीबीआई जांच करवाने के लिए तैयार है।

लोकभवन में पत्रकारों से बाचतीच करते हुए एडीजी राजीव कृष्ण ने कहा है कि जिस कार का एक्सीडेंट हुआ है, उसमें सीबीआई जांच के दो गवाह थे, इसमें एक की मौत हो गई है। उन्होंने कहा कि रेप पीड़िता को 10 सुरक्षा कर्मी मिले हुए हैं।

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप पीड़िता से मुलाकात करने लखनऊ के ट्रामा सेंटर पहुंचा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल

पीड़िता दिल्ली में रहती है। पीड़िता की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों के मुताबिक कार में जगह ना होने का हवाला देकर पीड़िता ने खुद सुरक्षाकर्मियों को साथ जाने से मना किया था। उन्होंने कहा कि ट्रक मालिक ने बताया है कि फाइनेंसर के डर से नंबर प्लेट पर ग्रीस लगाकर ट्रक चला रहा था।

एडीजी राजीव कृष्ण ने बताया कि पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक ट्रक नंबर UP-71-AT-8300 का मालिक देवेंद्र किशोर पाल निवासी ललौली जिला फतेहपुर उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। जबकि ट्रक ड्राइवर आशीष कुमार पाल पुत्र सूरजपाल निवासी अट्टी समदपुर, ललौली जिला फतेहपुर व ट्रक क्लीनर मोहन श्रीवास पुत्र सरवण निवासी पैलानी जिला बांदा उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। ट्रक 2018 माडल का है, जो 12 चक्के वाला है।

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप केस: सवालों के घेरे में प्रशासन और CBI, तेज हो रही कार्रवाई की मांग

पुलिस को दिए बयान में ड्राइवर आशीष कुमार पाल ने बताया है कि बांदा में उसने रात 12 से 1 बजे के बीच 28000 रुपए से मोरंग खरीद कर ट्रक में भरा। जिसे रायबरेली में 37000 रुपए में सुबह करीब 10 बजे बेच दिया।

जब वह खाली ट्रक लेकर 28 जुलाई को रायबरेली से फतेहपुर लौट रहा था, तो दोपहर 1 बजे के करीब विपरीत दिशा से आ रही तेज रफ्तार स्विफ्ट डिजायर कार से हादसा हो गया दुर्घटना के समय तेज बारिश हो रही थी, जिससे ड्राइवर संतुलन नहीं बन सका, और कार से टकरा गया।

यह भी पढ़ें: यूपी के नई गवर्नर आनंदीबेन के स्वागत के लिए एयरपोर्ट पर पहुंचे सीएम योगी समेत कई मंत्री

वहीं, ट्रक मालिक देवेंद्र पाल ने पुलिस को बयान दिया है कि वह समय पर किश्तों का भुगतान करने में असमर्थ था और बहुत बार फाइनेंसर उन्हें परेशान कर रहे थे। इस वजह से उसने ट्रक के सामने की साइड नंबर प्लेट पर कुछ ग्रीस पेंट कर दिया था।

इस बीच लखनऊ से एफएसएल फॉरेंसिक टीम के एक्सपर्ट डॉ. नरेंद्र कुमार, डॉ. रविकांत शर्मा और डॉ. प्रतिभा देर शाम रायबरेली पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया। पुलिस ने ट्रक ड्राइवर, क्लीनर और मालिक को गिरफ्तार कर लिया है।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story