सियासी ड्रामे का पर्दा गिराः बसपा प्रत्याशी का पर्चा सही, बजाज का खारिज

यूपी में दस सीटों पर हो रहे राज्यसभा चुनाव में आज पूरे दिन राजनीतिक ड्रामा होता रहा । बहुजन समाज पार्टी के पांच विधायकों के समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश  यादव से मिलने के बाद पूरे दिन इस बात की चर्चा रही कि अब बसपा प्रत्याशी  रामजी गौतम का पर्चा कैंसिल हो जाएगा।

BSP-SP

BSP-SP (file pic )

लखनऊ: यूपी में दस सीटों पर हो रहे राज्यसभा चुनाव में आज पूरे दिन राजनीतिक ड्रामा होता रहा । बहुजन समाज पार्टी के पांच विधायकों के समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश  यादव से मिलने के बाद पूरे दिन इस बात की चर्चा रही कि अब बसपा प्रत्याशी  रामजी गौतम का पर्चा कैंसिल हो जाएगा। लेकिन संसदीय विभाग की तरफ से पर्च की जांच के बाद रामजी दास का पर्चा सही पाया गया जबकि निर्दलीय प्रत्याषी प्रकाष बजाज का पर्चा खारिज कर दिया गया।

राज्यसभा चुनाव में समीकरण बिगड़ता नजर आया

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव में आज दोपहर अब समीकरण बिगड़ता नजर आ रहा है। बसपा प्रत्याशी के दस प्रस्तावकों में से पांच ने अपना नाम वापस ले लिया है। इसे लेकर बसपा खेमें में हडकम्प मच गया। इन विधायकों ने पार्टी में उपेक्षा का आरोप गया। विधायकों ने प्रस्तावक के तौर पर अपना नाम वापस लेने की भी बात कही।

ये भी पढ़ें…नवंबर में लगेगा टीका: यूपी में विशेष अभियान की शुरुआत, रोगमुक्त होगा प्रदेश

बंद कमरे में देर तक चली वार्ता

इससे पहले विधायकों और अखिलेश यादव के बीच काफी देर तक बंद कमरे में वार्ता चली। मुलाकात करके बाहर आए विधायक सीधे विधानसभा पहुंचे और यहां प्रस्तावक से अपना प्रस्ताव वापस ले लिया। इन बागी विधायको में से एक  असलम चौधरी  की पत्नी ने कल ही समाजवादी पार्टी की सदस्यता ली थी।

ये भी पढ़ें…मोदी के मंत्री की बिगड़ी तबियत: स्वास्थ्य पर आई बड़ी खबर, अब इनको हुआ कोरोना

विधायकों की बगावत पर बसपा नेता उमा शंकर सिंह ने कहा कि नामांकन के वक्त इन सभी पांच विधायकों की सहमति थी और वहां पर मौजूद रहे थे। अब इन्होंने जो किया है वो गलत है, इसे स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए। उमाशंकर  सिंह ने कहा कि  ये साजिश है ताकि एक दलित राज्यसभा ना पहुंचे।

सबकी निगाहे विधानसभा सचिवालय पर टिकी

इसके बाद पूरे दिन सबकी निगाहे विधानसभा सचिवालय पर टिकी रही। केन्द्रीय चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक भी लखनऊ पहुंचे और पूरे मामले की समीक्षा की। इसके बाद देर शाम  तक जब इस बात का इंतजार होता रहा कि स्क्रूटनी  के दौरान क्या परिणाम सामने आता है। देर शाम  साढे सात बजे धुंधली तस्वीर सामने आई जिसमें रामजी गौतम का पर्चा सही पाया गया। जबकि निर्दलीय प्रत्याशी प्रकाश  बजाज का पर्चा खारिज कर दिया। प्रकाश बजाज मूलरूप से वाराणसी के रहने वाले हैं। वकील प्रकाश बजाज मुंबई में प्रैक्टिस करते हैं और उनकी पत्नी भी वकील हैं। अब निर्दलीय विधायकप्रकाश बजाज के समर्थक कोर्ट जाने की बात कह रहे हैं। कहा जा रहा है कि कल वह गुरूवार को कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगें। अब इस पर कोर्ट क्या रूख सामने आता है। इसके बारे में कल ही पता चल पाएगा।।

श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App