यूपी की करोड़पति टीचर: खुली पोल तो मचा हँगामा, सामने आई सारी सच्चाई

उत्तर प्रदेश से स्कूल में नौकरी करने वाली शिक्षिका का एक नया वाकया सामने आया है। यूपी के 25 स्कूलों में फर्जी ढ़ंग से नौकरी करने का मामला है। इस शिक्षिका का नाम अनामिका शुक्ला है।

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश से स्कूल में नौकरी करने वाली शिक्षिका का एक नया वाकया सामने आया है। यूपी के 25 स्कूलों में फर्जी ढ़ंग से नौकरी करने का मामला है। इस शिक्षिका का नाम अनामिका शुक्ला है। हालांकि कासगंज पुलिस ने शनिवार को शिक्षिका का गिरफ्तार कर लिया है। बता दें, अनामिका शुक्ला यहां के कस्तूरबा विद्यालय फरीदपुर में विज्ञान की शिक्षिका के रूप में पूर्णकालिक रूप से सेवाएं दे रहीं थीं।

ये भी पढ़ें… वित्तीय घाटे को कम करेगा IMF, कर्मचारियों के वेतन को स्थिर रखने का प्रस्ताव

अनामिका शुक्ला नाम की शिक्षिका

इसके साथ ही बेसिक शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारियों के निर्देशों पर जिले में अनामिका शुक्ला नाम की शिक्षिका की खोज की गई, तो कस्तूरबा विद्यालय में यह शिक्षिका पाई गई। वहीं इससे एक दिन पहले शुक्रवार को बीएसए (बेसिक शिक्षा अधिकारी) ने शिक्षिका के सैलरी आहरण पर रोक लगाते हुए ये नोटिस जारी किया था।

हालांकि ये नोटिस व्हाट्सएप पर भेजा गया था। बीते शुक्रवार की शाम शिक्षिका ने इस नोटिस को देखा, तो शनिवार सुबह को वो अपना इस्तीफा देने बीएसए दफ्तर के बाहर पहुंची। अपने साथ आए एक युवक के माध्यम से उसने इस्तीफे की प्रति बीएसए (बेसिक शिक्षा अधिकारी) को भेजी।

ये भी पढ़ें…600 हाथियों की हत्या: सामने आया इसका सच, मेनका गांधी का दावा गलत

पुलिस की पूछताछ जारी

इसके बाद जब युवक से शिक्षिका के बारे में पूछताछ की गई तो उसने बताया कि अनामिका शुक्ला बाहर सड़क पर खड़ी हैं। इस पर बीएसए (बेसिक शिक्षा अधिकारी) अंजली अग्रवाल ने सोरों पुलिस को इस मामले की जानकारी दी और कार्यालय के स्टाफ के माध्यम से घेराबंदी कर ली गई।

जहां पर पुलिस ने तुरंत आकर शिक्षिका को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद पुलिस शिक्षिका को सोरों कोतवाली ले आई। इस मामले पर कोतवाली प्रभारी रिपुदमन सिंह ने बताया कि शिक्षिका अनामिका शुक्ला को गिरफ्तार कर लिया गया है। फिलहाल शिक्षिका से पुलिस की पूछताछ जारी है।

ये भी पढ़ें…कोरोना के खिलाफ जंग में भारत सबसे आगे, जल्द तैयार होगी 1 अरब वैक्सीन