×

भ्रष्टाचार के लिए चर्चित कुलपति ने किया एक और कारनामा, जानिए क्या है मामला

भ्रष्टाचार एवं मनमानेपन के लिए बिख्यात कुलपति पूर्वांचल विश्वविद्यालय का एक और कारनामा प्रकाश में आया है। जनपद के एक महाविद्यालय के प्रबंधन का मामला...

Newstrack
Published on: 1 July 2020 7:23 PM GMT
भ्रष्टाचार के लिए चर्चित कुलपति ने किया एक और कारनामा, जानिए क्या है मामला
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

जौनपुर: भ्रष्टाचार एवं मनमानेपन के लिए बिख्यात कुलपति पूर्वांचल विश्वविद्यालय का एक और कारनामा प्रकाश में आया है। जनपद के एक महाविद्यालय के प्रबंधन का मामला न्यायालय में बिचाराधीन होने के बाद भी कुलपति ने अपनी मनमानी करते हुए एक मोटी धनराशि का लाभ उठा कर एक आरोपित व्यक्ति की प्रबंध समिति को मान्यता प्रदान कर दिया है। हलांकि की विपक्षी गण अब मामले को राजभवन तक ले जाने की तैयारी कर लिए हैं, लेकिन कुलपति ने अपनी मनमानी के चलते एक नया विवाद खड़ा कर दिया है।

ये भी पढ़ें: इस डाॅन ने करवाई परमवीर की हत्या, गैंगवार की बढ़ी आशंका

प्रबंधन का विवाद लम्बे समय से चल रहा

बता दें कि जलालपुर स्थित वयालसी महाविद्यालय में प्रबंधन का विवाद विगत लम्बे समय से चल रहा है। तीन लोगों ने अपना अपना दावा प्रबंधक होने का प्रस्तुत किया है। दावेदारों में 1- विजय प्रताप सिंह, 2- ज्ञान बहादुर सिंह, 3- भुवनेश्वर सिंह का नाम है। शासनदेश है कि महाविद्यालय में प्रबंधकीय विवाद होने के बाद नियमों के तहत पर्यवेक्षक की रिपोर्ट एवं निबन्धन कार्यालय में पंजीकृत सूची और लीगल एडवाइज के पश्चात कुलपति को निर्णय लेना चाहिए।

कुलपति का कार्यकाल अब खात्मे की तरफ है

लेकिन यहां पर ऐसा नहीं किया गया चूंकि कुलपति का कार्यकाल अब खात्मे की तरफ है और धन की लालच में इनके द्वारा खुली मनमानी की गयी है। न तो निबन्धन कार्यालय की पंजीकृत सूची को मंगाया गया, न ही कोई लीगल राय ही ली गयी बस अपनी मनमानी करते हुए विजय प्रताप सिंह की कमेटी को प्रबन्ध कमेटी की मान्यता दे दिया गया है। ज्ञान बहादुर सिंह और भुवनेश्वर सिंह की कमेटी को बाहर कर दिया गया।

ये भी पढ़ें: यात्री और मालगाड़ी परिचालन ने स्थापित किये नए कीर्तिमान, इतनी हुई कमाई

इसमें खबर यह है कि विजय प्रताप सिंह के उपर कर्मचारियों के वेतन में धांधली बाजी करने एवं शासनदेश के विपरीत बीए, बी एससी की कक्षाओं में मनमानी फीस वसूली सहित तमाम आरोप लगे हुए हैं, जिसकी जांच भी हुई और दोषी पाये जा चुके हैं। कुलपति ने ऐसे व्यक्ति को प्रबन्धक बना कर महाविद्यालय को विवादित बना दिया है जिसका कुप्रभाव यहाँ की शैक्षणिक व्यवस्था पर पड़ना तय माना जा रहा है।

कुलपति ने अपनी हेकड़ी का परिचय दिया

यहाँ यह भी बता दें कि इस महाविद्यालय के ट्रस्टीशिप सदस्य ओम प्रकाश सिंह ने जिले की दीवानी न्यायालय में एक मुकदमा दायर कर रखा है जो आज भी विचाराधीन है ऐसे में कुलपति को प्रबन्धकीय विवाद में कोई निर्णय नहीं देना चाहिए था लेकिन न्याय पालिका की भी अनदेखी करते हुए कुलपति ने अपनी हेकड़ी का परिचय दिया है। सूत्र की माने तो तो अब कुलपति के मनमाने निर्णय के खिलाफ ज्ञान बहादुर सिंह और भुवनेश्वर सिंह दोनों महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश के यहाँ अपील करने जा रहे हैं।

विपक्षी जनो को अब राजभवन से न्याय की अपेक्षा शेष बची है। अब देखना है कि कुलाधिपति एवं राज्यपाल के स्तर से मामले को गम्भीरता से लेते हुए कुलपति के खिलाफ कोई जांच आदि कारायी जाती है या इन्हें मनमानी करने की छूट पर ही मुहर लगा दी जाती है

रिपोर्ट: कपिल देव मौर्य, जौनपुर

ये भी पढ़ें: इस जिले ने किया उत्कृष्ट प्रदर्शन, जानिए किस मामले में हासिल की ये उपलब्धि

Newstrack

Newstrack

Next Story