×

रामनवमी पर विहिप पूरे देश में करने जा रहा है ये बड़ा काम

सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता खुलने के बाद अब विश्वहिंदू परिषद आगामी 25 मार्च से पूरे देश में 15 दिन का रामोत्सव...

Deepak Raj

Deepak RajBy Deepak Raj

Published on 19 Jan 2020 1:15 PM GMT

रामनवमी पर विहिप पूरे देश में  करने जा रहा है ये बड़ा काम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ। सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का रास्ता खुलने के बाद अब विश्वहिंदू परिषद आगामी 25 मार्च से पूरे देश में 15 दिन का रामोत्सव पखवाड़ा मनाने की तैयारी कर रहा है। यूपी के प्रयागराज में 20 जनवरी से शुरू हो रही तीन दिवसीय मार्गदर्शकमंडल की बैठक में जुट रहे साधू-संत रामोत्सव पखवाड़े की रूपरेखा तैयारकरेंगे और इसे अंतिम रूप देंगे।

इस रामोत्सव पखवाड़े के जरिए विहिप उन सभी कारसेवकों तक पहुंचेगी जो राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े थे। इसके साथ ही जिन श्रद्धालुओं ने मंदिर निर्माण के लिए शिलाया अन्य सामाग्री दी है उन तक भी पहुंचने का प्रयास किया जायेगा। विहिप अपने कैडर को इस संबंध में आदेश दे दिया है।

1989 में अयोध्या में शिलान्यास कार्यक्रम का आयोजन किया गया था

बताते चले कि वर्ष 1989 में अयोध्या में शिलान्यास कार्यक्रम का आयोजन किया गया था और इससे पूर्व ही पूरे देश से श्रीराम उकेरी हुई है और शिलाये एकत्र की गई थी।

ये भी पढ़ें- शौर्य दिवस को लेकर विहिप और साधु संतो में मतभेद

राममंदिरनिर्माण के लिए न्यायालय ने एक ट्रस्ट के गठन का आदेश दिया है और यह ट्रस्ट ही मंदिर निर्माण की तिथि की घोषणा करेगा लेकिन विहिप ने मंदिर निर्माण आगामी रामनवमी को यानी अप्रैल माह में शुरू किए जाने के संकेत भी दिए है।

गौरतलब है कि संघ परिवार और विहिप के लिए रामनवमी में हर साल होने वाला एक कार्यक्रम है लेकिन इस बार यह विशेष तौर पर मनाया जायेगा। विहिप प्रवक्ता शरद अवस्थी ने न्यूजट्रैक को फोन पर बताया कि विहिप लंबे समय से इस दिन की प्रतीक्षा कर रहा था।

विहिप कारसेवकों को जोड़ रहा है

अब जबकि सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो गया है तो इस ऐतिहासिक समय में उन सभी को जोड़ना हमारा कर्तव्य है जिन्होंने इस आंदोलन में योगदान दिया है। उन्होंने बताया कि यह विहिप के वरिष्ठ नेता अशोक सिंधल की परिकल्पना थी।

ये भी पढ़ें-धर्म संसद: कड़े फैसले लेने के मूड में विहिप, राम मंदिर निर्माण की हो सकती है घोषणा

विहिप उन सभी कारसेवकों को जोड़ रहा है जो रामजन्मभूमि आंदोलन से जुड़े थे और उन सभी 60 हजार स्थानों के लोगोंको भी जहां मंदिर निर्माण के लिए शिलापूजन हुए थे। उन्होंने बताया कि तीन याचार अप्रैल को महावीर जयंती के दिन इसका एक विशाल कार्यक्रम भी होगा।

विहिप लंबे समय से राम मंदिर निर्माण के लिए आंदोलनरत है

गौरतलब है कि विश्व हिंदू परिषद लंबे समय से राम मंदिर निर्माण के लिए आंदोलनरत है। पिछले साल प्रयागराज में हुई विहिप की धर्मसंसद में राम मंदिर निर्माण में देरी के लिए मोदी सरकार को घेरने में भी कसर नहीं छोड़ी गयी थी और धर्मसंसद में मंदिर निर्माण की तिथि की घोषणा नहीं होने के कारण जमकर हंगामा भी हुआ था।

Deepak Raj

Deepak Raj

Next Story