Top

योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई: दो IPS अफसरों के खिलाफ FIR, ये है वजह

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद विजिलेंस ने दोनों IPS अधिकारियों समेत पांच आरोपितों के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम समेत अन्य धाराओं में FIR दर्ज कर ली है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 23 Sep 2020 6:11 AM GMT

योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई: दो IPS अफसरों के खिलाफ FIR, ये है वजह
X
योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई: दो IPS अफसरों के खिलाफ FIR, ये है वजह (social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से हरी झंडी मिलने के बाद विजिलेंस ने दोनों IPS अधिकारियों समेत पांच आरोपितों के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम समेत अन्य धाराओं में FIR दर्ज कर ली है। विजिलेंस के मेरठ सेक्टर के थाने में दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज किए गए है।

ये भी पढ़ें:मोदी पूरी दुनिया में: दुनियाभर में 100 लोगों में शामिल PM, हुआ भारत का नाम

दोनो अधिकारियों के खिलाफ देर रात FIR दर्ज करा दी गयी

बताया जा रहा है कि कुछ महीनों पहले नोएडा में तैनात दो IPS अफसरों अजय पाल शर्मा और IPS हिमांशु कुमार के खिलाफ कथित भ्रष्ट्राचार मामलों की जांच अब तेज हो गयी है। इन दोनो अधिकारियों के खिलाफ देर रात FIR दर्ज करा दी गयी। IPS अजय पल शर्मा और IPS हिमांशु कुमार के साथ ही कथित पत्रकार चंदन राय, स्वप्निल राय और अतुल शुक्ला का नाम भी FIR में शामिल किया गया। इसमें कुल पांच लोगों को नामजद किया है।

IPS IPS (social media)

नोएडा के एसएसपी रहते हुए वैभव कृष्ण ने पांच IPS पर गंभीर आरोप लगाए

गौरतलब है कि नोएडा के एसएसपी रहते हुए वैभव कृष्ण ने पांच IPS अधिकारियों अजय पाल शर्मा, सुधीर कुमार सिंह, राजीव नारायण मिश्रा, गणेश साहा और हिमांशु कुमार पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए थे। शुरुआती जांच में सुधीर कुमार सिंह, राजीव नारायण और गणेश साहा के खिलाफ आरोप साबित नहीं हो सके थे। पर अजय पाल और हिमांशु के खिलाफ पर्याप्त सबूत पाए गए थे, जिसके आधार पर विजिलेंस जांच की सिफारिश की गई थी। अजय पाल अभी पुलिस प्रशिक्षण स्कूल उन्नाव और हिमांशु पीएसी इटावा में तैनात हैं।

ये भी पढ़ें:भारत ने तुर्की को दी कड़ी चेतावनी: इस हरकत पर बताई औकात, दिया था ये बयान

शासन सूत्रों ने बताया

शासन सूत्रों ने बताया कि अजय पाल शर्मा पर अपनी पोस्टिंग को लेकर बिचैलियों से संपर्क करने के वायस सैपल और इसी आरोप में हिमांशु कुमार के व्हाट्सएप मैसेज के सही होने की पुष्टि हुई है।एफआईआर दर्ज होने के बाद दोनों ही आईपीएस अधिकारियों के निलंबन को लेकर जल्द ही फैसला हो सकता है। विजिलेंस ने इन दोनों अफसरों पर लगे आरोपों की जांच कर शासन से इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने की सिफारिश की थी। शासन की सहमति के बाद एफआईआर दर्ज की गई है। अब जब एफआईआर हो गयी है इसलिए कहा जा रहा है कि अब दोनों ही अफसरों के निलंबन पर जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।

श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story