जानिए किस कैबिनेट बैठक में मंत्रियों के मोबाइल फोन को रखा गया बाहर

उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रियों को मंगलवार को पहली बार अपने मोबाइल फोन कैबिनेट बैठक से बाहर रखने पड़े। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों इस संबंध में फैसला लिया था।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रियों को मंगलवार को पहली बार अपने मोबाइल फोन कैबिनेट बैठक से बाहर रखने पड़े। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों इस संबंध में फैसला लिया था।

मुख्यमंत्री योगी ने उस समय इच्छा व्यक्त की थी कि कैबिनेट की बैठक बगैर किसी व्यवधान के सम्पन्न होनी चाहिये। कभी-कभी बैठक के दौरान ही मंत्रियों के मोबाइल फोन बनजे लगते हैं, इससे बैठक में शामिल लोगों का ध्यान न चाहते हुए भी मोबाइल की तरफ चला जाता है। इसके अलावा कई मंत्री बैठक के वक्त ही मोबाइल पर आये मैसेज को पढ़ने में व्यस्त हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें…जानिए यूपी सरकार ने किसे बनाया पशुपालन विभाग का निदेशक

योगी की इच्छा के अनुरुप मुख्य सचिव ने उस समय एक आदेश जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये हैं कि लोकभवन स्थित मंत्रिपरिषद कक्ष के अंदर कोई भी व्यक्ति मोबाइल फोन लेकर न आये। यह आदेश अधिकारियों पर भी लागू होगा। इस आदेश की प्रतियां प्रदेश के दोनों उप मुख्यमंत्री और सभी मंत्रियों (कैबिनेट मंत्री, स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री तथा राज्यमंत्रियों) के निजी सचिवों को भेजी गयी थी। निजी सचिवों से यह भी कहा गया था कि वे इस आदेश की जानकारी अपने-अपने मंत्रियों को दे दें।

यह भी पढ़ें…UP में अध्यक्ष पद के लिए ऐसे चेहरे की तलाश में है BJP, इन नामों की चर्चा तेज

इसी आदेश के अनुपालन में लोक भवन में आज कैबिनेट की बैठक से पहले ही सभी मंत्रियों के मोबाइल फोन को बाहर रखवा दिये गये। अब मोबाइल फोन को कैबिनेट बैठक से साथ ही किसी भी समीक्षा बैठक में मंजूरी नहीं मिलेगी।