तीन साल पूरे होने से पहले एक और बड़ी उपलब्धि की तैयारी में योगी सरकार

प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार अपने तीन साल के कार्यकाल के पहले डिफेंस एक्सपो का आयोजन कराकर एक और उपलब्धि हासिल करने की तैयारी में है। राज्य सरकार कुंभ मेले, इन्वेस्टर्स समिट और प्रवासी भारतीय सम्मेलन की तरह इसे अर्न्तराष्ट्रीय पहचान दिलाने के प्रयास में है।

लखनऊ: प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की सरकार अपने तीन साल के कार्यकाल के पहले डिफेंस एक्सपो का आयोजन कराकर एक और उपलब्धि हासिल करने की तैयारी में है। राज्य सरकार कुंभ मेले, इन्वेस्टर्स समिट और प्रवासी भारतीय सम्मेलन की तरह इसे अर्न्तराष्ट्रीय पहचान दिलाने के प्रयास में है। डिफेंस एक्सपो के माध्यम से लगभग 25 हजार करोड़ रुपए के निवेश की संभावना है। उधर केन्द्र सरकार जल्द अपनी नयी प्रोक्योरमेन्ट पॉलिसी घोषित करेगी, जिससे डीईसी में निवेश को बल मिलेगा।

आगामी पांच से नौ फरवरी लखनऊ में आयोजित किए जा रहे डिफेंस एक्सपो की बात सबसे पहले नरेन्द्र मोदी ने पिछले साल की थी। प्रधानमंत्री मोदी की योजना उत्तर प्रदेश में डिफेंस इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर (डीआईसी) की स्थापना करने की है। इसके पीछे उनकी योजना प्रदेश में रक्षा निर्माण गतिविधियों का हब बनाने और अत्यधिक निवेष की है।

उनका मानना है कि भारत रक्षा उत्पादों के निर्माण और निर्यात के लिए हब का काम करेगा, जिसमें उत्तर प्रदेश मुख्य भूमिका निभाएगा। इसी लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार आयोजन को सफल बनाने के प्रयास में लगी हुई है।

यह भी पढ़ें…निर्भया केस: दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी, 22 जनवरी को होगी फांसी

यह देश की सबसे बड़ी डिफेंस एक्सपो होगी, जिसमें सबसे ज्यादा लोग आएंगे। इसके लिए लगातार बैठकों का सिलसिला चल रहा है। इन्वेस्टर्स समिट के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने प्रदेश के लिए डिफेंस इण्डस्ट्रियल कॉरिडोर की घोषणा के साथ ही राज्य सरकार द्वारा अपनी उप्र डिफेंस एण्ड एयरोस्पेस मैनुफैक्चरिंग एण्ड इम्प्लॉयमेण्ट प्रमोशन पॉलिसी-2018 का निर्माण किया गया।

राज्य सरकार का मानना है डिफेंस एक्ससो से निवेश आएगा और प्रदेश में बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर बनेगें। इससे पहले जब राज्य सरकार ने इन्वेस्टर्स समिटि को आयोजना कराया था तो उसे अब तक लगभग पांच लाख करोड़ के प्रस्ताव मिले थें।

यह भी पढ़ें…‘Free kashmir’ वाली ये लड़की! सामने आई सच्चाई, बताई पोस्टर लहराने की असली वजह

इसके तहत निवेशकों को निवेश के लिए आकर्षित किया जा रहा है। अलीगढ़, झांसी, कानपुर, आगरा और चित्रकूट सहित लखनऊ में इकाइयों की स्थापना के लिए लैंड बैंक तैयार किया जा रहा है। बुन्देलखण्ड क्षेत्र में इन इकाइयों की स्थापना को प्रोत्साहन देने के दृष्टिगत बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का भी निर्माण किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें…अमेरिका-ईरान युद्ध! अभी-अभी मची भगदड़, 35 की मौत, 50 से अधिक घायल

योगी सरकार इससे पहले लखनऊ में ‘इन्वेस्टर्स समिट वाराणसी में 21-23 प्रवासी भारतीय दिवस तथा प्रयागराज में अर्न्तराष्ट्रीय कुम्भ का सफल आयेाजन कर चुकी है। कुंभ में लगभग 25 करोड़ लोग आए थे। यह कुंभ सुव्यवस्था, स्वच्छता एवं सुरक्षा के लिए जाना जाता है। लखनऊ में आयोजित की जा रही डिफेंस एक्सपो-2020 में अब तक 925 इनवेस्टर्स ने अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है। यह देश की अब तक की सबसे बड़ी रक्षा प्रदर्शनी होगी, जो 42 हजार वर्गमीटर के क्षेत्रफल में आयोजित की जाएगी।