×

सीएम योगी से अब घर बैठे इस नंबर पर करें सीधे बात, बताएं अपनी परेशानी

सरकारी कामों में अड़चन आने पर अब आप अपनी परेशानी या शिकायत सीधे मुख्यमंत्री कार्यालय से कर सकेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरूवार को टोल फ्री हेल्पलाइन 1076 का शुभारम्भ करेंगे। इस हेल्पलाइन का हेडक्वार्टर लखनऊ में होगा।

Dharmendra kumar
Updated on: 3 July 2019 6:27 PM GMT
सीएम योगी से अब घर बैठे इस नंबर पर करें सीधे बात, बताएं अपनी परेशानी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: सरकारी कामों में अड़चन आने पर अब आप अपनी परेशानी या शिकायत सीधे मुख्यमंत्री कार्यालय से कर सकेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरूवार को टोल फ्री हेल्पलाइन 1076 का शुभारम्भ करेंगे। इस हेल्पलाइन का हेडक्वार्टर लखनऊ में होगा। जहां से शिकायत संबंधित पटल पर फॉरवर्ड की जाएगी। शिकायत का समाधान हो, इसके लिए मुख्यमंत्री कार्यालाय की एक टीम इसकी मॉनीटरिंग करेगी।

यह भी पढ़ें...लखनऊ: रोड रोलर से दबकर दो बच्चियों की दर्दनाक मौत, ग्रामीणों का हंगामा

1076 हेल्पलाइन को मुख्यमंत्री की टोल फ्री हेल्पलाइन सेवा आईजीआरएस (इन्टीग्रेटेड ग्रीवांस रिड्रेसल सिस्टम) जनसुनवाई पोर्टल से लिंक की जाएगी। जन सुनवाई पोर्टल पर 1076 हेल्पलाइन का अलग से विकल्प उपलब्ध होगा। इस विकल्प को चुन कर यह पता किया जा सकेगा कि पीडित की शिकायत पर क्या कार्रवाई हुई? कौन अधिकारी इसके लिए जिम्मेदार हैं? शिकायत निस्तारण में कहां व्यवधान आ रहा है? 1076 टोल फ्री हेल्पलाइन को सुचारू ढंग से संचालित करने के लिए तहसील स्तर तक अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।

यह भी पढ़ें...CWC19: इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को 119 रन से हराया, सेमीफाइनल में बनाई जगह

टोल फ्री नंबर 1076 पर पीड़ित आम जनता सीधे शिकायत कर सकेगी। इसकी मानीटरिंग करने वाली मुख्यमंत्री कार्यालय की टीम शिकायत का संज्ञान लेकर इसे सम्बन्धित जिले या विभाग में निचले स्तर पर फॉरवर्ड कर देगा और निचले स्तर पर ही समस्या का समाधान करने का प्रयास किया जायेगा। अगर निचले स्तर पर समस्या का हल नहीं होता है तो जिलें या विभाग के उच्च अधिकारी डीएम या एसएसपी को इसके समाधान के लिए भेजा जायेगा। इस स्तर पर भी समस्या का हल नहीं होने पर इसे शासन को भेजा जायेगा।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story