Top

औरैया: युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, पुलिस पर वसूली का आरोप

अजीतमल कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत रविवार की देर शाम अमावता क्षेत्र के अंतर्गत एक युवक का शव घर के अंदर संदिग्ध परिस्थितियों में पड़ा पाया गया। जानकारी होने पर परिजनों ने आनन-फानन में उसे अस्पताल में भर्ती कराया। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 7 March 2021 6:58 PM GMT

औरैया: युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, पुलिस पर वसूली का आरोप
X
अजीतमल कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत रविवार की देर शाम अमावता क्षेत्र के अंतर्गत एक युवक का शव घर के अंदर संदिग्ध परिस्थितियों में पड़ा पाया गया।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

औरैया: जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो उस समाज का क्या होगा ऐसा ही एक मामला जनपद औरैया के कोतवाली अजीतमल क्षेत्र में देखने को मिला। जिसमें पुलिस द्वारा लगातार ग्रामीण व नामजद के साथ अज्ञात लोगों से रुपयों की मांग की जा रही थी। जिसके तहत एक युवक का शव आज उसी के घर के अंदर संदिग्ध परिस्थितियों में मृत अवस्था में पड़ा पाया गया। पुलिस की कार्यप्रणाली से आक्रोशित लोगों ने मुर्दाबाद के नारे लगाकर अपना आक्रोश व्यक्त किया।

अजीतमल कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत रविवार की देर शाम अमावता क्षेत्र के अंतर्गत एक युवक का शव घर के अंदर संदिग्ध परिस्थितियों में पड़ा पाया गया। जानकारी होने पर परिजनों ने आनन-फानन में उसे अस्पताल में भर्ती कराया। जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। वहीं परिजनों ने पुलिस पर उत्पीड़न किए जाने का आरोप लगाया है। घटना की सूचना पाते ही सीओ सहित अन्य पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे।

कोतवाली अजीतमल के ग्राम अमावता निवासी संग्राम सिंह पुत्र शिव शंकर का रविवार की देर शाम घर के अंदर संदिग्ध परिस्थितियों में शव पड़ा हुआ पाया गया। जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया और आसपास के लोग युवक को अस्पताल ले गए। जहां पर डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए बताया कि पुलिस आए दिन युवक को उत्पीड़ित कर रहे थे जिसके चलते शायद उसकी मौत हुई है। परिजनों द्वारा जानकारी दी गई कि मृतक संग्राम सिंह के भाई धर्मेंद्र सिंह को 2 मार्च को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/03/VID-20210307-WA0236.mp4"][/video]

ये भी पढ़ें...अयोध्या में बोले डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा, बंगाल में गूंजेगा जय श्री राम का नारा

बताया कि एक क्रेन चालक से किसी बात को लेकर कुछ लोगों की बहस हो गई थी जिस पर पुलिस ने एक नामजद सहित अज्ञात लोगों पर सरकारी कार्य में बाधा डालने एवं अन्य धाराओं में गिरफ्तार कर जेल भेजा था। जेल भेजे जाने के बाद पुलिस लगातार ग्रामीणों का उत्पीड़न कर रही थी। ग्रामीणों ने यह भी आरोप लगाया पुलिस लोगों से रुपयों की मांग कर रही थी। जिसके चलते संग्राम सिंह काफी परेशान था और रविवार को उसका शव घर के अंदर पड़ा पाया गया। इससे ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है।

ये भी पढ़ें...झांसी में हुआ कृषक प्रशिक्षण का आयोजन, किसानों को दी गई ये सभी जानकारियां

घटना की सूचना पाते ही सीओ कमलेश नारायण पांडे, कोतवाली पुलिस, एसडीएम रमापति सिंह भी घटनास्थल पर पहुंच गए थे। वही आक्रोशित लोगों द्वारा पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। घटना की गंभीरता को देखते हुए कई थानों का पुलिस फोर्स भी बुला लिया गया था। जबकि सीओ सदर सुरेंद्र नाथ यादव भी पहुंच गए थे। एहतियात के तौर पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। समाचार लिखे जाने तक गांव में तनाव का माहौल व्याप्त था। बताते चलें कि ग्रामीणों का आक्रोश उस समय भड़क उठा जब क्रेन चालक द्वारा जो मुकदमा दर्ज कराया गया था उसमें दो अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज थी जिसमें पुलिस लगातार मृतक व उसके परिजनों को परेशान कर रही थी।

रिपोर्ट: प्रवेश चतुर्वेदी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story