Top

महिला सैनिकों के लिए बड़ा फैसला, नहीं पहननी पड़ेगी पुरुषों की अंडरवियर

स्विट्जरलैंड की सेना में महिला सैनिकों के लिए एक अहम फैसला लिया गया। यहां की सरकार ने महिला सैनिकों की समस्याओं को..

Shweta

ShwetaBy Shweta

Published on 31 March 2021 4:28 PM GMT

महिला सैनिकों के लिए बड़ा फैसला, नहीं पहननी पड़ेगी पुरुषों की अंडरवियर
X

 स्विट्जरलैंड में महिला सैनिक( फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्लीः स्विट्जरलैंड की सेना में महिला सैनिकों के लिए एक अहम फैसला लिया गया। यहां की सरकार ने महिला सैनिकों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया है कि अब महिला सैनिको को पुरुषों का अंडरवियर नहीं पहनना होगा।

क्या है पूरा मामलाः

आप को बता दें कि स्विट्जरलैंड में महिला सैनिक पुरुषों का अंडरवियर पहनती है। जिसके कारण महिला सैनिकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लेकिन सरकार ने महिला सैनिकों की इस समस्या को देखते हुए यह फैसला लिया कि अब उन्हें पुरुषों का अंडरवियर पहनने की जरूरत नहीं है।

आखिर ऐसा क्यों है कि यहां की महिला सैनिक पुरुषों का अंडरवियर पहनती हैः

बता दें कि अभी तक स्विट्जरलैंड की सेना में शामिल महिला सैनिकों को ढीली फिटिंग वाले अंडरवियर दिए जाते रहे हैं। जिसके कारण उन्हें काफी समस्या होती थी। सेना की वर्तमान व्यवस्था के अनुसार सैन्य यूनिफॉर्म में केवल पुरुषों के कपड़े ही शामिल हैं। वहीं महिला सैनिकों के लिए कोई यूनिफॉर्म नहीं है। सरकार का मानना है कि महिलाओं के कपड़ों को सेना में शामिल करने से सेना में उनकी भागीदारी बढ़ेगी। यही वजह है कि सरकार ने इस बार महिला सैनिको के लिए पुरुषों का अंडरवियर पहनने से मना किया है।

स्विट्जरलैंड की सेना में महिलाओं की हिस्सेदारी केवल इतनी फीसदः

गौरतलब है कि स्विट्जरलैंड की सेना में महिलाओं की भागीदारी केवल एक फीसद है। जहां पर सरकार ने आने वाले 20 वर्षों में 10 फीसदी करने का लक्ष्य लेकर चल रहा है। वही साल 2004 से महिला और पुरुष सैनिक एक साथ ड्यूटी कर रहे हैं। स्विट्जरलैंड की रक्षा मंत्री विओला अमहर्ड ने सरकार के इस फैसले का तहे दिले से स्वागत किया है। जिसमें उन्होंने कहा कि इस कदम से सेना में महिलाओं की अधिक भागीदारी सुनिश्चित होगी। इसके बाद और महिलाएं भी सैना में आने के लिए प्रेरित होगी।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shweta

Shweta

Next Story