सबसे बड़ा घोटाला: करोड़ों का सोना निकला नकली, अब जाकर हुआ खुलासा

चीन दुनियाभर में अपनी नकली चीजों के लिए जाना जाता है। अब इसमें चाहे कोई सामान हो, औद्योगिक उत्पाद हो या फिर उसे बैंक लोन संबंधी कुछ भी हो।

नई दिल्ली :  चीन दुनियाभर में अपनी नकली चीजों के लिए जाना जाता है। अब इसमें चाहे कोई सामान हो, औद्योगिक उत्पाद हो या फिर उसे बैंक लोन संबंधी कुछ भी हो। चीन कुछ न कुछ करके चीजों में घपला और धोखेबाजी कर ही लेता है। ऐसे में अब पता चला कि चीन के गोल्ड रिजर्व का 4 प्रतिशत से अधिक यानी 83 टन सोना नकली है। चीन का ये घपला किया है एक बड़ी ज्वेलरी कंपनी ने। चीन की इस कंपनी का हेडक्वार्टर वुहान में है।

ये भी पढ़ें… देश-दुनिया के डाॅक्टरों से राहुल ने की बात, अब CM केजरीवाल को लिखेंगे पत्र

83 टन नकली गोल्ड बार

चीन की जीरो हेज नाम की वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, किंगोल्ड ज्वेलरी कंपनी वुहान में है। इसने चीन की 14 फाइनेंशियल कंपनियों (शैडो बैंक) से बीते 5 सालों में 2.8 बिलियन डॉलर यानी 21,148 करोड़ रुपए का लोन लिया। ये लोन लेने के लिए कंपनी ने 83 टन नकली गोल्ड बार (सोने की ईंटें या बिस्किट) जमानत के तौर पर रखे।

ऐसे में इन दिनों के इतिहास में इसे चीन का सबसे बड़ा सोने का घोटाला माना जा रहा है। इस घोटाले में फिर से चीन के वुहान शहर का नाम सामने आया है। इसी वुहान से बीते 6 महीेने पहले कोरोना वायरस ने कहर ढाया था।

ये भी पढ़ें…महाराष्ट्र में कृषि सप्ताह की आज से शुरुआत

मार्केट कैप 8 मिलियन डॉलर

वुहान की किंगोल्ड ज्वेलरी कंपनी नैसडैक स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड है। ये दुनिया की सबसे बड़ी प्राइवेट कंपनी है जो सोने का काम करती है। इसका मार्केट कैप 8 मिलियन डॉलर यानी 60.41 करोड़ रुपए है। इन कंपनी के मालिक पूर्व मिलिट्री अफसर जिया झिहोंग हैं।

सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, किंगोल्ड ज्वेलरी कंपनी ने 16 बिलियन युआन यानी 17,017 करोड़ रुपए के लोन के लिए बतौर जमानत, सिक्योरिटी और बीमा के लिए 83 टन सोने की ईंटें-बिस्किट रिजर्व में रखवाए थे। लेकिन जांच में सामने आया की ये तांबा है।

ये भी पढ़ें…सर गंगाराम अस्पताल की ओपीडी सेवाएं आज से फिर होंगी शुरू

32,073 करोड़ की संपत्ति से वसूला जाएगा

फिलहाल अब ये लोन 30 बिलियन युआन भारतीय मुद्रा 32,073 करोड़ की संपत्ति से वसूला जाएगा। वसूली करने का काम चीन की बीमा कंपनी पीआईसीसी प्रॉपर्टी एंड कैजुल्टी कोऑपरेटिव लिमिटेड करेगी। इसके साथ में कुछ अन्य छोटी बीमा कंपनियां भी इस काम में लगेंगी।

बता दें, इस मामले का खुलासा तब हुआ जब इस साल फरवरी में किंगोल्ड कंपनी ने डोंगगुआन ट्रस्ट को लिमिटेड (चीन का शैडो बैंक) का लोन नहीं दिया था।

उसके बाद इस कंपनी ने किंगोल्ड द्वारा बतौर जमानत सोने की ईंटे निकलवाई। जिसके बाद उसकी जांच की गई तो ये पता चला कि वह तांबा है। इसके बाद किंगोल्ड को लोन देने वाली कंपनियों में हड़कंप मचा हुआ है।

ये भी पढ़ें…सर गंगाराम अस्पताल की ओपीडी सेवाएं आज से फिर होंगी शुरू