अश्वेत फ्लॉयड मौत के बाद पुलिस प्रमुख का बड़ा फैसला, किया ये एलान

अमेरिका के भीतर आज अशांति कायम है। अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिंसा में मौत की घटना के बाद अमेरिका के कई नगरों में उत्पन्न हुए प्रदर्शनों ने अमेरिकी समाज में मौजूद नस्लवाद की समस्या को एक बार फिर से केंद्र में ला दिया ।

Published by suman Published: June 14, 2020 | 9:47 am

नई दिल्ली:  अमेरिका के भीतर आज अशांति कायम है। अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिंसा में मौत की घटना के बाद अमेरिका के कई नगरों में उत्पन्न हुए प्रदर्शनों ने अमेरिकी समाज में मौजूद नस्लवाद की समस्या को एक बार फिर से केंद्र में ला दिया ।इस मामले की उग्रता को देखते हुए अमेरिका की अटलांटा पुलिस प्रमुख ने शनिवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

यह पढ़ें…अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव: ट्रंप से इतना आगे निकले बिडेन, तीन बड़े सर्वे में निकला ये नतीजा

 

पुलिस प्रमुख ने छोड़ा पद

पुलिस प्रमुख एरिका शील्ड्स ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया, क्योंकि 27 साल के रेशार्ड ब्रूक्स की हत्या से अटलांटा में विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। इससे पहले पुलिस हिरासत में हुई जॉर्ड फ्लॉयड की मौत के बाद अमेरिका के कई राज्यों में प्रदर्शन देखने को मिले थे। प्रदर्शनकारियों ने शनिवार रात को दोनों दिशाओं में एक अंतरराज्यीय राजमार्ग को बंद कर दिया और वेंडी के रेस्तरां के बाहर आग लगा दी, जहां ब्रुक्स को गोली मारी गई थी। अटलांटा की मेयर कीशा लैंस बोटम्स ने दोपहर की कॉन्फ्रेंस में पुलिस प्रमुख के इस्तीफे की घोषणा की। बोटम्स ने कहा, ‘मुझे विश्वास नहीं होता कि यह बल के उपयोग का सही औचित्य है और अधिकारी को तुरंत प्रभाव से बर्खास्त किया गया है।’ उन्होंने कहा कि पुलिस प्रमुख पद से इस्तीफा देने का फैसला शील्ड का अपना है। जब पुलिस अधिकारी के जांच दौरान उन्होंने यह कदम उठाया । अधिकारियों ने बताया कि मृतक व्यक्ति ने अधिकारी के टेजर (इलेक्ट्रिक उपकरण) को छीन लिया, लेकिन जब उसे गोली लगी, तब वह भाग रहा था।

घटना की जांच

घटना की जांच कर रहे जॉर्जिया ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (जीबीआई) ने बताया कि पुलिस को शिकायत मिली थी कि एक व्यक्ति रेस्तरां के ड्राइव थ्रू लेन को अवरुद्ध करके कार के अंदर सो रहा है।जीबीआई ने शनिवार को सिक्योरिटी कैमरा का वीडियो जारी किया है। फुटेज में दिख रहा है कि एक आदमी के पीछे दो श्वेत पुलिसकर्मी भाग रहे हैं। वह अपना एक हाथ उठाता है जिसमें उसने कोई वस्तु पकड़ी हुई है, जिसे वह एक पुलिस अधिकारी पर तानता है। इसके बाद पुलिस अधिकारी उसपर गोली चलाते हैं, वह पार्किंग में नीचे गिर जाता है। जीबीआई के निदेशक विस रेनॉल्ड्स ने कहा कि ब्रूक्स ने एक पुलिस अधिकारी से टेजर छीन लिया था और उसे अधिकारी पर तानकर वहां से भाग गया। इस वजह से पुलिस अधिकारी को अपनी बंदूक निकालनी पड़ी और तीन गोलियां चलाईं।

 

यह पढ़ें…यहां बढ़ी अनलॉक में छूट: सरकार ने किया एलान, 15 जून से मिलेगी ये सुविधा

 

अश्वेतों को बेवजह निशाना

इस आंदोलन के केंद्र में अमेरिकी पुलिस है जिस पर समय-समय पर अश्वेतों को बेवजह निशाना बनाने के आरोप लगते रहते हैं। विशेष बात यह है कि इस आंदोलन से जुड़ने वाला एक बड़ा वर्ग अमेरिकी श्वेत समुदाय और दक्षिणपंथी झुकाव रखने वालों में से है जो मानता है कि देश की मौजूदा समस्या कुछ पुलिस अधिकारियों की मानसिकता की नहीं, बल्कि उस नस्लवादी व्यवस्था की है जो न केवल ऐसे लोगों को बर्दाश्त करती और संरक्षण देती है, साथ ही उनको ऐसा करने पर प्रोत्साहित भी करती है।

 

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App