यमन में अमेरिकी बम से निशाना बने थे बच्चे

Published by Manali Rastogi Published: August 19, 2018 | 11:50 am
Modified: August 19, 2018 | 11:53 am

वाशिंगटन: सऊदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना द्वारा एक स्कूल बस पर किए गए हमले में इस्तेमाल बम की सप्लाई अमेरिका से हुई थी। इस बम को अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा स्वीकृत हथियारों के सौदे के तहत बेचा गया था। युद्ध सामग्री से संबंधित विशेषज्ञों ने सीएनएन को यह जानकारी दी।

यह भी पढ़ें: चार बेटियां पैदा होने पर बौखलाया पति, पत्नी की हत्याकर शव नदी किनारे दफनाया

यमन के स्थानीय पत्रकारों और युद्ध सामग्री विशेषज्ञों के साथ काम करते हुए सीएनएन ने पाया है कि नौ अगस्त को हुए हमले, जिसमें दर्जनों बच्चों की मौत हो गई थी। वह 227 किलोग्राम का लेजर एमके 82 बम था, जिसे अमेरिकी रक्षा ठेकेदारों में से एक लॉकहीड मार्टिन द्वारा निर्मित किया गया था।

यह बम उस बम के समान था जिसने अक्टूबर 2016 में यमन में एक अंतिम संस्कार हॉल पर हमले में भारी तबाही मचाई थी, जिसमें 155 लोग मारे गए थे और सैकड़ों घायल हुए थे।

–आईएएनएस