चीन ने फिर किया विरोध, कहा- NSG में भारत की सदस्यता अब और मुश्किल

चीन ने सोमवार (05 जून) को कहा कि परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में प्रवेश करने के लिए भारत का आवेदन अधिक जटिल हो गया है,

Published by tiwarishalini Published: June 5, 2017 | 7:45 pm
Modified: June 5, 2017 | 7:46 pm
चीन ने फिर किया विरोध, कहा- NSG में भारत की एंट्री अब और मुश्किल

चीन ने फिर किया विरोध, कहा- NSG में भारत की एंट्री अब और मुश्किल

बीजिंग: चीन ने सोमवार (05 जून) को कहा कि परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में प्रवेश करने के लिए भारत का आवेदन अधिक जटिल हो गया है, जो यह दर्शाता है कि यह अपनी पिछली स्थिति से आगे नहीं बढ़ा है।

चीन के सहायक विदेश मंत्री ली हुआई ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा, “परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह पर नई परिस्थितियों में एक नया मुद्दा है और यह पहले की कल्पना की तुलना में अधिक जटिल है।” उन्होंने हालांकि इस दौरान ‘जटिल’ शब्द की व्याख्या नहीं की।

यह भी पढ़ें … भारत अब नहीं रहा सबसे तेज बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था, नोटबंदी के कारण चीन ने पछाड़ा

उन्होंने कहा, “चीन गैर-भेदभावपूर्ण और वैश्विक रूप से लागू समाधान तक पहुंचने के लिए एनएसजी के परामर्श का समर्थन करता है, जो सभी सदस्यों पर लागू होता है।”
चीन ने फिर किया विरोध, कहा- NSG में भारत की एंट्री अब और मुश्किल

पिछले महीने चीन ने कहा था कि एनएसजी में भारत की सदस्यता को लेकर उनकी स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है, जो यह संकेत देता है कि वह अगले महीने स्विटजरलैंड के बर्न में होने वाले सत्र में नई दिल्ली की याचिका को फिर से रद्द करने की कोशिश करेगा।

दक्षिण कोरिया के सियोल में जून 2016 में एनएसजी के पूर्ण सत्र में चीन ने भारत के आवेदन का विरोध किया था और नवंबर में परामर्शी समूह की बैठक में भारत की दावेदारी को फिर से रोक दिया था।

यह भी पढ़ें … ग्लोबल रिटेल डेवलपमेंट इंडेक्स: चीन को पछाड़ भारत ने 30 विकासशील देशों की लिस्ट में किया टॉप

वैश्विक परमाणु व्यापार को नियंत्रित करने वाले 48 सदस्यीय इस कुलीन समूह की पूर्ण बैठक स्विट्जरलैंड के बर्न में इस महीने में होने की संभावना है। भारत की दावेदारी को अमेरिका और अन्य सदस्यों द्वारा समर्थन मिला है, लेकिन चीन परमाणु अप्रसार संधि में भारत की स्थिति का हवाला देते हुए इसके प्रवेश का विरोध करता है।

–आईएएनएस