Top

LAC-LOC पर खतरा बढ़ा: चीन-पाकिस्तान की खुली पोल, भारत की बढ़ी मुसीबतें

धोखेबाज चीन पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर अपनी नापाक हरकतों और चालबाजियों से बाज नहीं आ रहा है। लेकिन भारतीय की सेना भी कुछ कम नहीं है, उसकी हर करतूत पर मुंहतोड़ जवाब दे रही है। ऐसे में चीन की एक और चालबाजी का खुलासा हुआ है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 3 Sep 2020 8:12 AM GMT

LAC-LOC पर खतरा बढ़ा: चीन-पाकिस्तान की खुली पोल, भारत की बढ़ी मुसीबतें
X
धोखेबाज चीन पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर अपनी नापाक हरकतों और चालबाजियों से बाज नहीं आ रहा है। लेकिन भारतीय की सेना भी कुछ कम नहीं है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: धोखेबाज चीन पूर्वी लद्दाख बॉर्डर पर अपनी नापाक हरकतों और चालबाजियों से बाज नहीं आ रहा है। लेकिन भारतीय की सेना भी कुछ कम नहीं है, उसकी हर करतूत पर मुंहतोड़ जवाब दे रही है। ऐसे में चीन की एक और चालबाजी का खुलासा हुआ है। चीन पाकिस्तान को हथियारों से मजबूत कर रहा है। चीन VT-4 टैंक की नई टेक्नोलॉजी पाकिस्तान को दे रहा है। लगभग 350 से ज्यादा टैंकों को अच्छा करने के लिए इससे जुड़ी आधुनिक टेक्नोलॉजी चीन पाकिस्तान को देगा। बता दें, चीन इससे पहले भी कई मोर्चों पर पाकिस्तान का साथ देता आया है।

ये भी पढ़ें... अंबानी बच्चों का धमाल: पूरी दुनिया में बनाया अपना नाम, मिली बड़ी उपलब्धि

किस्तान की सैन्य ताकत को मजबूत करने और बढ़ाने के लिए

चीन के पाकिस्तान को देने वाले टैंक VT-4 मेन बैटल टैंक हैं जिसे MBT-300 भी कहते हैं। चीन के बने इस टैंक को थर्ड जेनरेशन टैंक माना जाता है, जिसका इस्तेमाल PLA करती है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, चीनी कंपनी पाकिस्तान के लिए 120 अल-खालिद-1 टैंक बनाने में सहायता कर रही है।

दूसरी तरफ पाकिस्तान की सैन्य ताकत को मजबूत करने और बढ़ाने के लिए चीन हर साल 25 टैंक अल-खालिद-1 टैंक पाकिस्तान को तैयार कराने में लगा हुआ है। चीन की कंपनी चाइना नॉर्थ इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन (NORINCO) पाकिस्तान की T-85 टैंक का अपग्रेडेशन करेगी।

china pak फोटो-सोशल मीडिया

Line ऐसे में इसके लिए पाकिस्तान और चीन का बड़ा समझौता हो गया है। साथ ही सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कि 90 से ज्यादा तकनीकी रूप से खराब पाकिस्तान के T-85 टैंक की मरम्मत चीन करेगा।

ये भी पढ़ें...लोन-EMI पर बड़ी खबर: आज मिल सकती है आपको राहत, थोड़ी देर में सुनवाई

डिफेंस डील

और तो चीन पाकिस्तान के लिए केवल टैंक अपग्रेडेशन में ही मदद नहीं कर रहा है बल्कि आर्टिलरी को भी बेहतर करने के लिए पूरा मदद कर रहा है। बॉर्डर पर पाकिस्तान हर रोज गोलीबारी के लिए इन्हीं का इस्तेमाल करता है।

इसके साथ ही पाकिस्तान चीन की SH-15 ट्रैक माउंटेड गन (MSG) को खरीदने की फिराक में लगा हुआ है। ऐसे में कई जानकार ये कहते हैं कि चीन पाकिस्तान को चुपचाप कम पैसों में इस तरीके की गन बेच रहा है। इसका इस्तेमाल पाकिस्तान पीओके में कई जगह कर सकता है।

ऐसे में सुरक्षा एजेंसियों से मिली जानकारी के अनुसार, पाकिस्तान 236 के करीब SH-15 हॉवित्जर खरीदना चाहता है। बीते साल पाक सेना ने इस सिलसिले में चीन से इसके लिए 512 मिलियन डॉलर की डिफेंस डील भी की थी। इन गनों को पाक सेना की 13 आर्टिलरी रेजिमेंट में शामिल किया जाएगा।

ये भी पढ़ें...किसानों से मिलने जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को पुलिस ने रोका, देखें तस्वीरें

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story