×

Nancy Pelosi: तिब्बत में मानवाधिकार हनन कर रहा चीन, अमेरिकी सदन प्रवक्ता नैंसी पेलोसी का बड़ा बयान

Nancy Pelosi: तिब्बत पर 8वाँ विश्व सांसद सम्मेलन (WPCT) अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में आयोजित किया जा रहा है।

Rajat Verma
Updated on: 2022-06-23T09:43:31+05:30
Nancy Pelosi
X

नैंसी पेलोसी (फोटो: सोशल मीडिया ) 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Nancy Pelosi: अमेरिका द्वारा बीते कुछ समय से चीन पर सख्त नज़र रखी जा रही है, ऐसे में संयुक्त राष्ट्र से लेकर कई वैश्विक मंच पर अमेरिका द्वारा चीन की हरकतों को लेकर बयान सामने आते रहे हैं। ऐसे में हालिया तौर पर अमेरिकी सदन प्रवक्ता नैंसी पेलोसी (Nancy Pelosi) ने चीन पर तीखा हमला करते हुए उनके द्वारा दशकों से तिब्बत (Tibet) में मानवाधिकारों पर हमला और हनन करने का आरोप लगाया है।

आपको बता दें कि नैंसी पेलोसी ने 8वें विश्व सांसद सम्मेलन में तिब्बत के पक्ष में टिप्पणी करते हुए कहा कि-"चीन द्वारा तिब्बत में दशकों से मानवाधिकार पर किया जा रहा यह हमला स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि बीजिंग को तिब्बत की स्वायत्तता, पहचान या आस्था का कोई सम्मान नहीं है तथा तिब्बत के लिए वास्तविक स्वायत्तता को आगे बढ़ाने के लिए दुनिया भर के नेताओं को एक साथ लाने के लिए यह मंच महत्वपूर्ण है। तिब्बत में चीन द्वारा दशकों के दोहन के बावजूद वह अपने धर्म, संस्कृति, पहचान और पर्यावरण को संरक्षित करने के प्रयास के साथ वैश्विक शांति को बढ़ावा दे रहे हैं, तो हमें भी उनके साथ आना चाहिए।"

आपको बात दें कि तिब्बत पर 8वाँ विश्व सांसद सम्मेलन (WPCT) अमेरिका के वाशिंगटन डीसी में आयोजित किया जा रहा है, जिसमें तिब्बत में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर चिंता व्यक्त करने वुर चर्चा के लिए 22 से 23 जून तक विश्व के कई नेताओं को आमंत्रित किया गया है।

चीन के इस हमले के खिलाफ उठाई आवाज

उन्होंने आगे अपने वक्तव्य में स्पष्ट रूप से कहा कि यह दुनिया का नैतिक कर्तव्य है कि वह चीन के इस हमले के खिलाफ अपनी आवाज़ ऊंची कर तिब्बती लोगों के पक्ष में खड़े हों। नैंसी पेलोसी ने दुनिया के कई देशों द्वारा इस मुद्दे पर ना बोलने का कारण बताते हुए कहा कि वह चीन में वाणिज्यिक संबंधों के कारण उनके द्वारा किए जा रहे मानवाधिकारों के हनन के खिलाफ नहीं बोलते हैं।

Monika

Monika

Next Story