×

चीन का सबसे खतरनाक हथियार, भारत के खिलाफ तैनात, है ये खासियत

चीन की भारत पर दबाव बनाने की रणनीति जारी है। इसी कड़ी में अब नया दांव किया जा रहा है कि लद्दाख पर चीन के सबसे ताकतवर आधुनिक तोप तैनात की गई।

Shivani Awasthi
Updated on: 11 Jun 2020 3:07 PM GMT
चीन का सबसे खतरनाक हथियार, भारत के खिलाफ तैनात, है ये खासियत
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: भारत चीन बॉर्डर विवाद में भले ही चीनी सैनिक एलएसी से पीछे हट गए हों लेकिन चीन की भारत पर दबाव बनाने की रणनीति जारी है। इसी कड़ी में अब नया दांव किया जा रहा है कि लद्दाख पर चीन के सबसे ताकतवर आधुनिक तोप तैनात की गई।

LAC पर चीन में तैनात की सबसे ताकतवर तोप

दरअसल, चीन की सरकारी मीडिया ने दावा किया है कि उनकी सेना ने LAC पर सबसे आधुनिक और ताकतवर तोप PCL-181 को तैनात किया है। बता दें कि इस ताकतवर तोप को पहले ही नए हथियारों में शामिल कर लिया गया था। वहीं अब इसे भारत चीन विवाद के दौरान लद्दाख सीमा पर भी तैनात किया गया।

ये भी पढ़ेंः दोस्त ने रूस ने चीन का दिया साथ, इस मुद्दे पर भारत से अपनाया अलग रूख

PCL-181 टॉप की खासियत:

चीन की सबसे ताकतवर ये तोप काफी आधुनिक है। PCL-181 तोप 155 एमएम की है। वहीं इसका वजह केवल 25 टन है। ये स्‍वचालित होवित्‍जर तोप है, जिसका इस्तेमाल लंबे समय तक किया जा सकता है। वहीं कम वजन की खासियत की वजह से इसे आसानी से कही भी ले जाया जा सकता है। ऐसी जगहों पर भी यहां ऑक्‍सीजन की मात्रा कम हो।

डोकलाम विवाद के दौरान भी तैनात की गई थी PCL-181

गौरतलब है कि चीन की पीपुल लिबरेशन आर्मी (PLA) ने साल 2017 में डोकलाम विवाद के दौरान वही PCL-181 को तैनात करने का दावा किया था। हालाँकि बाद में दोनों देशों के बीच शांति बातचीत हो गयी थी।

ये भी पढ़ेंः RBI गवर्नर की अहम बैठक, रेटिंग एजेंसियों के प्रमुखों संग हुई इन मुद्दों पर चर्चा

गौरतलब है कि चीन की सेना लद्दाख के गलवान, पट्रोलिंग प्वाइंट 15 और हॉट स्प्रिंग इलाके से करीब दो किमी तक पीछे हट गई है। लेकिन अभी भारत की तरफ से ऐसा कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है। साथ ही इस मसले पर चीन के विदेश मंत्रालय की बीते बुधवार को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस पूछे गए सवाल पर कोई साफ जवाब नहीं दिया।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story