Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

कोरोना से दुनिया परेशान, चीन में सिर्फ एक केस

चीन के ‘हेल्थ टाइम्स’ के अनुसार शियान शहर के एक अस्पताल के कर्मचारी को जनवरी - फरवरी में कोरोना वैक्सीन की दो डोज़ लगी थीं। इस कर्मचारी के जिम्मे कोरोना टेस्टिंग के सैंपल कलेक्ट करना था।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 26 March 2021 10:35 AM GMT

कोरोना से दुनिया परेशान, चीन में सिर्फ एक केस
X
कोरोना से दुनिया परेशान, चीन में सिर्फ एक केस (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर ने सबको परेशान कर रखा है। लेकिन जहाँ से ये आफत शुरू हुई वहां सब नार्मल है। जी हाँ, चीन का तो यही दावा है। चीन में क्या चल रहा है इसकी जानकारी सिर्फ वहां की सरकारी मीडिया ही देती है और उसके अनुसार चीन में फरवरी से अब तक सिर्फ एक केस मिला है।

ये भी पढ़ें:Bihar Board Result 2021: अगर वेबसाइट हो जाए क्रैश, तो ऐसे चेक करें रिजल्ट

कर्मचारी को इसी काम में असावधानी के चलते कोरोना संक्रमण हो गया है

चीन के ‘हेल्थ टाइम्स’ के अनुसार शियान शहर के एक अस्पताल के कर्मचारी को जनवरी - फरवरी में कोरोना वैक्सीन की दो डोज़ लगी थीं। इस कर्मचारी के जिम्मे कोरोना टेस्टिंग के सैंपल कलेक्ट करना था। इस कर्मचारी को इसी काम में असावधानी के चलते कोरोना संक्रमण हो गया है। 14 फरवरी के बाद से चीन में ये पहला केस है।

कर्मचारी को कौन सी वैक्सीन लगी थी ये नहीं बताया गया है

इस कर्मचारी को कौन सी वैक्सीन लगी थी ये नहीं बताया गया है। चीन के मुख्य महामारी एक्सपर्ट ज़ंग गुआंग के अनुसार वैक्सीन से सौ फीसदी प्रोटेक्शन नहीं मिलता है। लेकिन चीनी वैक्सीन से गंभीर संक्रमण से 90 फीसदी प्रोटेक्शन मिलता है। चीन में कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए जनता को तरह तरह के इंसेंटिव भी दिए जा रहे हैं। लेकिन इसके बावजूद वैक्सीनेशन की रफ़्तार धीमी है।

corona-testing corona-testing (PC: social media)

कोरोना वैक्सीन 3 वर्ष से 17 वर्ष के बच्चों के लिए सुरक्षित है

अब एक चीनी ने दावा किया है कि उसकी कोरोना वैक्सीन 3 वर्ष से 17 वर्ष के बच्चों के लिए सुरक्षित है। कंपनी ने यह दावा शुरुआती डेटा के आधार पर किया है। अब तक चीन समेत दुनिया भर में सिनोवैक की वैक्सीन के 7 करोड़ से अधिक खुराक दिए जा चुके हैं। चीन ने इस वैक्सीन के डोज़ वयस्कों को देने की मंजूरी दे दी है लेकिन अभी तक बच्चों पर प्रयोग के लिए मंजूरी नहीं मिली है क्योंकि उनका इम्यून सिस्टम वैक्सीन के प्रति अलग तरीके से प्रतिक्रिया करता है। बताया जाता है कि नए परीक्षण में शामिल बच्चों में सिर्फ दो बच्चों को तेज बुखार आया और शेष बच्चों में हल्के लक्षण दिखे।

ये भी पढ़ें:MP में कोरोना का कहर, लाॅकडाउन पर CM शिवराज ले सकते हैं बड़ा फैसला

बहरहाल, चीनी मीडिया के अनुसार चीन में कोरोना के प्रति सावधानियां बरती जा रहीं है और लोगों के लिए कोरोना प्रमाणपत्र ले कर चलना अनिवार्य है। मीडिया के अनुसार चीन में सब गतिविधियाँ पूरी तरह नार्मल हो चुकी हैं और अब देश के भीतर आवागमन पर कोई रोक टोक नहीं है। चीन ने अब अपनी सीमायें भी खोल दी हैं।

रिपोर्ट- नीलमणि लाल

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story