×

Corona New variant: भयानक तबाही की आशंका कोरोना वायरस में बेहद खतरनाक म्यूटेशन

Corona New variant : कोरोना वायरस (Corona virus new Variants) का नया बेहद खतरनाक वेरिएंट सामने आया है। अब तक इस वेरियंट के 104 केस मिले हैं

Neel Mani Lal

Neel Mani LalReport Neel Mani LalRagini SinhaPublished By Ragini Sinha

Published on 26 Nov 2021 5:13 AM GMT

Corona virus latest news
X

कोरोना वायरस में बेहद खतरनाक म्यूटेशन, तबाही की आशंका (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Corona Virus New Variant : जो लोग ये सोचते हैं कि कोरोना महामारी (Corona mahamari) खत्म हो चुकी है वे ये जान लें कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है। केरल (kerla) , दिल्ली (Delhi) , मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) , हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) , कर्नाटक (Karnataka) आदि राज्यों में कोरोना (Corona virus cases) केस तेजी से बढ़ने लगे हैं। और इन हालातों के बीच 32 स्पाइक म्यूटेशन (32 spike mutation) के साथ कोरोना वायरस (Corona virus new Variants) का नया बेहद खतरनाक वेरिएंट सामने आया है। अब तक इस वेरियंट के 104 केस मिले हैं और यह बोत्सवाना, दक्षिण अफ्रीका व हांगकांग (Hongkong) में फैल चुका है। माना जा रहा है कि इस पर वैक्सीन (Corona vaccine) बेअसर है। इस वेरिएंट का वैज्ञानिक नाम 'बी.1.1.529' है और अब इसे 'एनु' नाम दिया गया है। डब्लूएचओ ने नए वेरियंट की गंभीरता को देखते हुये एक विशेष बैठक बुलाई है।

भारत के डेल्टा वेरिएंट को चिंताजनक केटेगरी में रखा

कोरोना के नए वेरिएंट (Corona new Variants) के संक्रमण का पहला मामला दक्षिण अफ्रीकी देश बोत्सवाना में सामने आया था। इस वेरिएंट को सबसे अधिक व्यापक और संक्रामक (Corona infection) बताया जा रहा है। इंपीरियल कॉलेज ऑफ लंदन के प्रमुख वायरोलॉजिस्ट डॉ टॉम पीकॉक ने इस वेरिएंट को चिंता का कारण बताया है। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्तमान में ब्रिटेन के अल्फा, दक्षिण अफ्रीका के बीटा, ब्राज़ील के गामा और भारत के डेल्टा वेरिएंट को ही चिंताजनक केटेगरी में रखा है, लेकिन नया वेरिएंट डेल्टा सहित अन्य किसी भी वेरिएंट से खतरनाक होने की क्षमता रखता है। इसमें कई तरह के म्यूटेशन हैं जो पहली बार देखे जा रहे हैं।


भारत में चिंता

कोरोना का नया वेरियंट मिलने के बाद केंद्र सरकार (Central Government) ने राज्यों को एक परामर्श जारी किया है। इसमें कहा है कि दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग, बोत्सवाना के अंतरराष्ट्रीय यात्रियों (International tourist ki screening) ) की कड़ी स्क्रीनिंग, जांच, सुनिश्चित करें। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि विदेशों से आने वाले सभी लोगों की टेस्टिंग सघन की जाए. अगर कोई ट्रैवलर पॉजिटिव निकलता है तो उसका सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग लेबोरेटरी वाले राज्य में भेजें। नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज के मुताबिक वैज्ञानिक अभी इस नए कोरोना वेरिएंट के संभावित प्रभावों को समझने की कोशिश कर रहे हैं


यूरोप और अमेरिका में कोरोना के मामले में बढ़ोतरी

अमेरिका और यूरोप में कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus symptoms) के मामलों में फिर से तेज उछाल देखने को मिल रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने तो कहा है कि यूरोप कोरोना महामारी की मजबूत पकड़ में बना हुआ है और ऐसे में आने वाले महीनों में यूरोप में महामारी से सात लाख और लोगों की मौत हो सकती है। इससे यहां जान गंवाने वालों की संख्या 22 लाख पर पहुंचने की आशंका है। डब्लूएचओ ने कहा है कि यूरोप के कई देशों को सख्त प्रतिबंध लागू करने की आवश्यकता है। डब्लूएचओ ने कहा कि महामारी के वर्तमान हालातों को देखते हुए अगले साल वसंत ऋतु तक मृतकों की कुल संख्या 22 लाख तक पहुंचने की आशंका है। डब्लूएचओ के अनुसार, यूरोप और मध्य एशिया में मौतों का प्रमुख कारण कोरोना वायरस ही है। यूरोप में महामारी के फिर से प्रसार का प्रमुख कारण वायरस का डेल्टा वेरिएंट, वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग में लापरवाही बरतना है। पिछले सप्ताह यूरोप में महामारी से प्रतिदिन 4,200 लोगों की मौत हुई है, जो सितंबर में हो रही 2,100 से मौतों से दोगुनी है।

क्या करें

  • भीड़ में न जाएं
  • घर से बाहर डबल मास्क जरूर लगाएं
  • हाथ बार बार धोएं
  • वैक्सीनेशन को अचूक उपाय न समझें
Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story