×

डेढ़ सौ रुपये लीटर दूध और ढाई हजार का सिलेंडर, इन देशों में महंगाई ने तोड़ दी कमर

कोरोनावायरस महामारी आने के बाद से वैश्विक स्तर पर सभी देशों की अर्थव्यवस्था में बड़ा ही बुरा प्रभाव पड़ा है। पाकिस्तान श्रीलंका सूडान और सीरिया समेत कई देशों को महंगाई के बुरे दौर से गुजर ना पड़ रहा है।

Bishwa Maurya
Published on 25 Jan 2022 5:07 PM GMT
डेढ़ सौ रुपये लीटर दूध और ढाई हजार का सिलेंडर, इन देशों में महंगाई ने तोड़ दी कमर
X

LPG Cylinder 

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कोरोना वायरस (Corona Virus) ने जब से इस दुनिया में दस्तक दी है तभी से सभी देशों की आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो गई है। लेकिन इनमें से कुछ देशों की आर्थिक स्थिति अति चिंताजनक हालात में भी पहुंच गई है। इन देशों में महंगाई चरम पर है देश के नागरिकों को खाने के लाले पड़ने लगे हैं। जो सामान पहले हजार रुपए के अंदर मिलते थे अब उन्हीं सामानों के लिए लोग 10,000 रुपये से अधिक खर्च करने को मजबूर हैं।

कोरोना वायरस महामारी के कारण बहुत से देशों की अर्थव्यवस्था बुरी तरह से चरमरा गई है। आर्थिक रूप से तंगी का यह हालात हमारे पड़ोसी देश श्रीलंका और पाकिस्तान भी भुगत रहे हैं जहां खाने-पीने के सामानों के दामों में बेतहाशा बढ़ोतरी देखी गई है जिसके कारण वहां पर सभी आय वर्ग के लोगों के जीवन यापन पर खासा असर पड़ रहा है। आइए ऐसे ही कुछ देशों के बारे में जो कोरोना वायरस महामारी के कारण आर्थिक तंगी (financial crisis) के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे हैं।

श्रीलंका

भारत के पड़ोसी देश श्रीलंका (Sri Lanka) में कोरोना वायरस महामारी के कारण आर्थिक स्थिति बेहद बुरी तरह से प्रभावित हुई है। इस वक्त देश में महंगाई इस कदर आसमान छू रही है कि खाने पीने का सामान लेना भी श्रीलंका के नागरिकों के लिए मुश्किल हो रहा है। वर्ल्ड बैंक के अनुमानित आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस महामारी आने के बाद से अभी तक श्रीलंका में कुल पांच लाख से अधिक लोग गरीबी रेखा के नीचे आ गए हैं। वहीं श्रीलंका में महज 1 महीने के भीतर खाने-पीने के सामानों के कीमतों में 15 फ़ीसदी से अधिक की बढ़ोतरी हुई है।

पाकिस्तान

पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) में भी कोरोनावायरस महामारी के कारण आर्थिक स्थितियां बहुत ही चिंताजनक बनी हुई है। हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने देश में बढ़ती महंगाई को लेकर काफी चिंता जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान को इस वक्त अकाउंट डेफिसिट (Account Deficit) से जूझना पड़ रहा है। देश में कुछ भी इंपोर्ट करना हर रोज महंगा होता जा रहा है। गौरतलब कोरोना वायरस महामारी आने के बाद से पाकिस्तान में महंगाई इस कदर आसमान छू रही है कि दूध के दाम 150 रुपए लीटर से भी अधिक हो चुके हैं। तो वहीं घरेलू गैस सिलेंडर के लिए लोगों को 2500 से अधिक रुपयों का दाम चुकाना पड़ रहा है। इसके अलावा वहां पर रोज के खाने में उपयोग होने वाली चीजें जैसे दाल, सब्जी, चीनी और चिकन जैसे चीजों के दामों में भी भारी उछाल आया है।

सीरिया और सूडान

कोरोना वायरस महामारी आने के बाद सीरिया (Syria) में भी महंगाई वहां के लोगों की कमर तोड़ रही है। देश में ईंधन की कीमतों में तेजी से इजाफा हुआ है। जिसके कारण सब्जियों और फलों के दाम में करीबन 20 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई है। वहीं सीरिया में खाने-पीने के सामानों में भी करीबन 15 फ़ीसदी से अधिक की बढ़ोतरी बीते 1 साल में दर्ज की गई है। इसी तरह अफ्रीकी देश सूडान (Sudan) में भी खाने-पीने के दामों में बढ़ोतरी होने के कारण वहां के नागरिकों को जीवन बसर करने में खासा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story