उत्तर कोरिया : खाद्यान्न की कमी की वजह से, भीषण सूखे से जूझ रहा है देश

आधिकारिक ‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ ने बुधवार को बताया कि इस साल के पहले पांच महीनों में देशभर में औसतन 54.4 मिलीमीटर बारिश हुई। देश में 1982 के बाद से यह बारिश का सबसे कम स्तर है। उत्तर कोरिया में 1982 में इसी अवधि में औसतन 51.2 मिलीमीटर बारिश हुई थी।

सियोल:  उत्तर कोरिया ने देश में खाद्यान्न की कमी की खबरों के बीच कहा है कि वह करीब चार दशकों में सबसे भीषण सूखे से जूझ रहा है।

आधिकारिक ‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ ने बुधवार को बताया कि इस साल के पहले पांच महीनों में देशभर में औसतन 54.4 मिलीमीटर बारिश हुई। देश में 1982 के बाद से यह बारिश का सबसे कम स्तर है। उत्तर कोरिया में 1982 में इसी अवधि में औसतन 51.2 मिलीमीटर बारिश हुई थी।

ये भी देंखे:अमेरिका तनाव बढ़ा रहा, हम संयम बरत रहे हैं: जरीफ

यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है, जब संयुक्त राष्ट्र खाद्य एजेंसियों ने इस माह की शुरुआत में एक संयुक्त आकलन में कहा था कि उत्तर कोरिया में करीब एक करोड़ लोग ‘‘खाने की भीषण कमी’’ से जूझ रहे है।

संयुक्त राष्ट्र में उत्तर कोरिया के राजदूत किम सोंग ने फरवरी में तत्काल खाद्य सुरक्षा की एक असाधारण अपील की थी।

ये भी देंखे:जौनपुर: 86 ग्राम रोजगार सेवकों की संविदा समाप्त करने का निर्देश

उत्तर कोरिया के अधिकारियों ने भोजन के इस अभाव के लिए खराब मौसम और अंतरराष्ट्रीय आर्थिक प्रतिबंधों को दोषी ठहराया है। उत्तर कोरिया के हालिया वर्षों में परमाणु एवं मिसाइल प्रक्षेपणों के बाद उस पर प्रतिबंध कड़े कर दिए गए है।

केसीएनए ने बताया कि सूखा मई के अंत तक जारी रहने की आशंका है।

(भाषा)