×

ड्रैगन तिलमिलाया: इस मुद्दे पर 61 देश आ गए भारत के साथ, आज फैसला हो जाएगा

प्रस्ताव में डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेबियस से अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया की निष्पक्ष, स्वतंत्र और व्यापक मूल्यांकन की एक चरणबद्ध प्रक्रिया और डब्ल्यूएचओ की कार्रवाई और महामारी के समय के बारे में जानकारी मांगी गई है। ।

राम केवी
Updated on: 18 May 2020 7:07 AM GMT
ड्रैगन तिलमिलाया: इस मुद्दे पर 61 देश आ गए भारत के साथ, आज फैसला हो जाएगा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

चीन की तिलमिलाहट और उस पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ गया, कयोंकि भारत कोरोनावायरस के स्रोत की तलाश करने वाले 61 देशों के साथ शामिल हो गया है। खबर ये है कि भारत उन 62 देशों में शामिल है, जिन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन में कोरोनोवायरस के स्रोत की पहचान किये जाने का प्रस्ताव रखा है। इस प्रस्ताव के जरिये डब्ल्यूएचओ को कोविड-19 की प्रतिक्रिया के "निष्पक्ष, स्वतंत्र और व्यापक मूल्यांकन" के लिए कहा गया है। चीन और अमेरिका इस प्रस्ताव का हिस्सा नहीं हैं।

यह प्रस्ताव 35 देशों और 27-सदस्यीय यूरोपीय संघ द्वारा लाए गए सात-पृष्ठ के मसौदा प्रस्ताव का हिस्सा है, और आज यानी सोमवार को असेम्बली में इस पर विचार किये जाने की संभावना है, असेम्बली डब्ल्यूएचओ का निर्णय लेने वाला निकाय है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों में से तीन द्वारा इस प्रस्ताव का समर्थन किया जा रहा है जिसेमें यूके, रूस और फ्रांस-जापान, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण कोरिया, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और तुर्की के साथ अन्य देश शामिल हैं।

लेकिन पाकिस्तान, नेपाल, श्रीलंका, मालदीव और अफगानिस्तान ने इस प्रस्ताव पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं। सार्क देशों में से, केवल बांग्लादेश और भूटान ने हस्ताक्षर किए हैं।

यह पहली बार है जब भारत ने वायरस की उत्पत्ति पर एक अंतर्राष्ट्रीय फोरम में भागीदारी की है और डब्ल्यूएचओ के संकट के जवाब के स्वतंत्र मूल्यांकन की आवश्यकता जतायी है। इससे पहले भारत ने कहा था कि वह कोविद -19 के खिलाफ लड़ाई में लगा हुआ है, और संकट खत्म होने के बाद इस मुद्दे पर फिर से विचार करेगा।

चीन ने ये कहा था

माना जाता है कि यह वायरस चीन के वुहान से उत्पन्न हुआ था, जहां कोविद -19 के पहले मामले की सूचना मिली थी। चीन ने हाल ही में संकेत दिया था कि वह "उचित समय पर" एक समीक्षा का समर्थन कर सकता है, लेकिन वायरस की उत्पत्ति के "राजनीतिकरण" को "अमेरिका और कुछ अन्य देशों द्वारा" और एक जांच को "अपराध के अनुमान पर आधारित" करार दिया था।

प्रस्ताव में डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेबियस से अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया की निष्पक्ष, स्वतंत्र और व्यापक मूल्यांकन की एक चरणबद्ध प्रक्रिया और डब्ल्यूएचओ की कार्रवाई और महामारी के समय के बारे में जानकारी मांगी गई है। ।

राम केवी

राम केवी

Next Story