×

जीका वायरसः विशेषज्ञों ने की अपील, कहीं और कराए जाएं ओलंपिक

By

Published on 28 May 2016 8:32 AM GMT

जीका वायरसः विशेषज्ञों ने की अपील, कहीं और कराए जाएं ओलंपिक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मियामी: वैज्ञानिकों, 150 अंतरराष्ट्रीय डॉक्टरों, और शोधकर्ताओं ने ज़ीका वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए एक लेटर पर हस्ताक्षर किया हैं। लेटर में रियो डी जेनेरियो में होने वाले ओलंपिक खेलों के आयोजन को किसी और जगह करवाने या टाल दिए जाने की मांग की गई है। ब्राजील के ज़ीका संकट से सबसे ज्यादा प्रभावित शहर रियो में खेल करवाना गैर जिम्मेदाराना और अनैतिक होगा।

लेटर में क्या कहा गया

-हमारी बड़ी चिंता ग्लोबल स्वास्थ्य को लेकर है।

-ज़ीका वायरस ने स्वास्थ्य को इस तरह से नुकसान पहुंचाया है।

-इसे विज्ञान ने पहले कभी देखा नहीं है।

ये भी पढ़ें...राजनाथ ने देविका को दी बधाई, कहा-जीका वायरस की खोजकर देश का बढ़ाया मान

-पत्र पर अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, ब्राजील समेत कई देशों के विशेषज्ञों ने हस्ताक्षर किए हैं।

-दुनियाभर के देशों से खेलों में शिरकत करने पांच लाख विदेशी पर्यटक आएंगे।

-ऐसे समय पर एक गैरजरूरी खतरा बना रहेगा।

-वे इस वायरस की चपेट में आ सकते हैं।

-इस वायरस को अपने साथ अपने देश ले जा सकते हैं।

-वहां जाकर यह एक महामारी का रूप ले सकता है।

ये भी पढ़ें...पूरी दुनिया में जीका वायरस का खौफ, मेरठ की बेटी ने सुलझाई गुत्थी

-इसके प्रकोप से बचे हुए दक्षिण एशिया और अफ्रीका, पर भी इसका प्रभाव हो सकता है।

-ज़ीका के कारण खतरनाक माइक्रोसेफली समेत जन्मजात विकृतियां आ सकती हैं।

-माइक्रोसीफेली ऐसी बीमारी है जिसमें बच्चे छोटे सिर और मस्तिष्क के साथ पैदा होते हैं।

वायरस का पड़ा है गहरा प्रभाव

-ब्राजील में पिछले साल मच्छर जनित ज़ीका फैलने लगा था।

-इसके बाद से लगभग 1300 बच्चों में इसके लक्षण दिख चुके हैं।

-इसे अभी तक ठीक नहीं किया जा सका है।

ये भी पढ़ें...ब्राजील में वहशियों की दरिंदगी, 33 लोग 36 घंटे लड़की से करते रहे रेप

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने की अपील

-ब्राजील की यात्रा पर जाने वाले लोग मच्छरों के काटे जाने से बचने के उपाय करके चलें।

-प्रेग्नेंट महिलाएं रियो डी जेनेरियो सहित उन क्षेत्रों में जाने से बचें, जहां जीका फैला हुआ है।

Next Story