Top

फ्रांस के राष्ट्रपति को शख्स ने सरेआम जड़ा थप्पड़, हिरासत में दो लोग

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को दक्षिण-पूर्वी फ्रांस की यात्रा के दौरान एक शख्स ने सरेआम तमाचा मार दिया।

Network

NetworkNewstrack NetworkShashi kant gautamPublished By Shashi kant gautam

Published on 8 Jun 2021 2:35 PM GMT

French President Emmanuel Macron was publicly slapped by a man
X

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों: फोटो-सोशल मीडिया 

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कभी- कभी बड़े नेताओं के साथ कुछ ऐसी घटनाएं हो जाती हैं जिस पर विश्वास करना मुश्किल होता है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को दक्षिण-पूर्वी फ्रांस की यात्रा के दौरान एक शख्स ने सरेआम तमाचा मार दिया। मिली खबर के अनुसार इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लिया गया है। पकड़े गए लोगों से पूछताछ जारी है।

जल्द की खबर के अनुसार फ्रांसीसी सेना को सेवा देने वाले एक गुट ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को इस्लाम को लेकर हिदायत दी थी । इस गुट का कहना है कि इस्लाम धर्म को रियायत देने की वजह से फ्रांस का 'अस्तित्व' दांव पर लग चुका है। फ्रांसीसी सेना में सेवारत सैनिकों के इस गुट का यह पत्र कंजर्वेटिव मैगजीन Valeurs Actuelles में प्रकाशित हुआ था।


एक पत्र गृह युद्ध की चेतावनी

Valeurs Actuelles मैगजीन में पिछले महीने भी इसी तरह का एक पत्र प्रकाशित हुआ था जिसमें गृह युद्ध की चेतावनी दी गई थी। बहरहाल, फ्रांस के गृह मंत्री और इमैनुएल मैक्रों के करीबी सहयोगी जेराल्ड डारमेनिन ने इस पत्र को कुछ लोगों की 'कच्ची पैंतरेबाजी' करार दिया। मंत्री ने अनाम पत्र लिखने वालों में 'साहस' की कमी का आरोप लगाया था।

18 वर्ष से नीचे की लड़कियों के हिजाब पहनने पर रोक

अप्रैल महीने में फ्रांस में सीनेट की ओर से एक नए प्रस्ताव के समर्थन में वोट किए जाने से सोशल मीडिया पर मुस्लिम समुदाय की ओर से नाराजगी जताई गई थी। इस प्रस्ताव में सार्वजनिक जगहों पर 18 वर्ष से नीचे की लड़कियों के हिजाब (सिर को ढकने वाला कपड़ा) पहनने पर रोक लगाने का प्रावधान है। ये प्रस्ताव 'सेपरेटिज्म' बिल का हिस्सा है। ये अभी प्रभावी नहीं हुआ है। इससे एक महीना पहले स्विट्जरलैंड के वोटरों ने बुरका और नकाब पर रोक लगाने के लिए वोट किया था।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story