Top

अमेरिकी जासूसी ड्रोन को मार गिराने के बाद बोला ईरान, जंग के लिए तैयार

अमेरिका और ईरान में तनाव के बीच अमेरिका के एक शक्तिशाली ड्रोन को मार गिराया गया है। अमेरिका ने कहा है कि ईरान ने उसके 18 करोड़ डॉलर के शक्तिशाली जासूसी ड्रोन को गिरा दिया है। अमेरिका के बयान के बाद ईरान ने ऐलान किया कि वह जंग के लिए पूरी तरह से तैयार है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 20 Jun 2019 4:25 PM GMT

अमेरिकी जासूसी ड्रोन को मार गिराने के बाद बोला ईरान, जंग के लिए तैयार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

तेहरान: अमेरिका और ईरान में तनाव के बीच अमेरिका के एक शक्तिशाली ड्रोन को मार गिराया गया है। अमेरिका ने कहा है कि ईरान ने उसके 18 करोड़ डॉलर के शक्तिशाली जासूसी ड्रोन को गिरा दिया है। अमेरिका के बयान के बाद ईरान ने ऐलान किया कि वह जंग के लिए पूरी तरह से तैयार है।

खाड़ी क्षेत्र में बढ़ते तनाव की वजह से पूरी दुनिया के चिंतित है, क्योंकि यह खबर ऐसे समय में आई है जब हाल ही में एक रिपोर्ट में आशंका जताई गई थी कि अमेरिका और ईरान के बीच तनाव के चलते परमाणु युद्ध हो सकता है।

यह भी पढ़ें...एनसीएलटी ने स्वीकार की याचिका, जेट एयरवेज के खिलाफ चलेगा दिवालिया का मुकदमा

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका ने ईरान की सेना के उस दावे को खारिज किया है कि यह ड्रोन उनके हवाई क्षेत्र में था। ईरान के कमांडर हुसैन सलामी ने बृहस्पतिवार को घोषणा कर दी कि उनके जवान जंग के लिए तैयार हैं। उन्होंने आगे कहा कि अमेरिका के ड्रोन को गिरा दिया गया, क्योंकि हमारी सीमाएं ही रेड लाइन हैं और इसने यह पार कर दिया था।

तेहरान ने कहा है कि उसने RQ-4 ग्लोबल हॉक ड्रोन को अपने दक्षिणी तटीय प्रांत हॉरमूजगन के आसमान में मार गिराया। इस पर एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि यह नेवी का MQ-4C ट्राइटन था जो अंतरराष्ट्रीय हवाई क्षेत्र में मौजूद था। दोनों पक्षों के दावे लगभग समान हैं, क्योंकि ट्राइटन ड्रोन ग्लोबल हॉक का ही एक प्रकार है।

यह भी पढ़ें...फतवा! बिना जरूरत CCTV कैमरे लगवाना नाजायज

अमेरिका के बेड़े में शामिल ट्राइटन ने U-2 जासूसी प्लेन की जगह ली है और यह 56,000 फीट की ऊंचाई पर उड़ सकता है। खास बात यह है कि इसे केवल दमदार रेडार गाइडेड मिसाइल से ही गिराया जा सकता है। इन मिसाइलों में से एक रूस का S-300 सिस्टम है, जो ईरान के पास मौजूद है। बताया जा रहा है कि पहली बार अमेरिका के ट्राइटन ड्रोन को किसी ने गिराया है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story