फिर हुआ बड़ा हमला: अमेरिकी दूतावास के पास दागे गए रॉकेट, बढ़ा तनाव

  इराकी राजधानी के हाई-सिक्योरिटी ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास के पास रॉकेट दागे गए हैं।सुरक्षा सूत्रों के मुताबिक बगदाद में अमेरिकी दूतावास के पास तीन रॉकेट दागकर इस हमले को अंजाम दिया गया है। फिलहाल हताहतों की कोई जानकारी नहीं है। व

बगदाद:  इराकी राजधानी के हाई-सिक्योरिटी ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास के पास रॉकेट दागे गए हैं।सुरक्षा सूत्रों के मुताबिक बगदाद में अमेरिकी दूतावास के पास तीन रॉकेट दागकर इस हमले को अंजाम दिया गया है। वहीं रॉकेट दागने के तुरंत बाद पूरे क्षेत्र में रॉकेट से हमला होने का अलार्म बजने लगा। सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को बगदाद के ग्रीन जोन में कत्यूषा रॉकेट गिराए गए। सूत्रों के अनुसार रॉकेट बगदाद के बाहर जफरनियाह जिले से लॉन्च किए गए थे।

 

यह पढ़ें….पाकिस्तान दाने-दाने को मोहताज, मच रहा रोटी पर हाहाकार, लाचार है इमरान सरकार

 

इराक में अ की राजधानी बगदाद में अमेरिकी दूतावास के नजदीक दो रॉकेट दागे जाने की जानकारी सामने आई। समाचार एजेंसी के अनुसार दोनों रॉकेट बगदाद के हाई सिक्योरिटी एरिया कहे जाने वाले दूतवास के नजदीक आकर गिरे हैं। जानकारी के अनुसार इन हमलों से अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

 

बता दें कि हाल ही में ईरान ने रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स के मुखिया जनरल कासिम सुलेमानी की मौत का बदला लेते हुए इराक स्थित दो अमेरिकी बेस पर एक दर्जन से ज्यादा बैलिस्टिक मिसाइलों से हमला किया था। ईरानी जनरल काशिम सुलेमानी की मौत के बाद से ही ईरान लगातार अमेरिका से बदला लेना चाहता है। इससे पहले 4 जनवरी को अमेरिकी दूतावास पर हमला किया गया था। उसके बाद 6 जनवरी को अमेरिकी ठिकाने पर रॉकेट दागे गए। 8 जनवरी को अल असद और इरबिल के दो सैन्य ठिकानों पर दर्जनों बैलिस्टिक मिसाइल दागी गए थी। इसके बाद 13 जनवरी को एयरबेस पर हमला किया गया। वहीं 15 जनवरी को भी इराकी एयरबेस पर एक बार रॉकेट से हमला किया गया था।

 

यह पढ़ें….पाकिस्तान ने चीन के साथ मिल रची ये बड़ी साजिश, POK पर उठाएगा खतरनाक कदम

 

बता दें कि अमेरिका ने ग्रीन-जोन पर हाल के वक्त में इसी तरह के हमलों के लिए ईरान समर्थित अर्धसैनिक समूहों को दोषी ठहराया है। इधर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ईरान को धमकी दे चुके हैं कि वह युद्ध के पक्ष में नहीं हैं लेकिन अगर ईरान ने किसी भी अमेरिकी नागरिक या उनकी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। हाल ही में ईरान ने मिसाइल अटैक में यूक्रेन के एक यात्री प्लेन को मार गिराया था। इसमें 176 लोगों की मौत हो गई थी।