Israel Hamas War: इजरायल यद्ध को देगा विराम, जानिए क्या है इसके पीछे बड़ी वजह

Israel Hamas War: इज़राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि इज़राइल गाजा पट्टी में सहायता के प्रवेश या बंधकों के बाहर निकलने की सुविधा के लिए लड़ाई में "सामरिक छोटे विराम" पर विचार करेगा।

Snigdha Singh
Published on: 7 Nov 2023 7:53 AM GMT (Updated on: 7 Nov 2023 9:50 AM GMT)
Israel Hamas War
X

Israel Hamas War (Photo: Social Media) 

Israel Hamas War: इजरायल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि इजरायल गाजा पट्टी से मदद के लिए युद्धा में विराम लेगा। इजरायली पीएम मे अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते युद्धविराम की बात को खारिज कर दिया। एन्क्लेव के उत्तर में घनी आबादी वाले गाजा शहर को घेरने के बाद, जहां हमास इस्लामी समूह स्थित है, इज़राइल की सेना ने कहा कि उसने एक आतंकवादी परिसर पर कब्जा कर लिया है। 7 अक्टूबर को दक्षिणी इज़राइल पर हमास के हमले के बाद से 1,400 लोगों को मार डाला और 240 बंधकों को पकड़ लिया। इज़राइल ने एक हमले में बमबारी की है, जिसमें गाजा के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि लगभग 4,100 बच्चों सहित 10,000 से अधिक फिलिस्तीनियों की मौत हो गई है।

इज़राइल का कहना है कि वह गाजा में बंधकों की सहायता के लिए लड़ाई रोकने के लिए तैयार है। इज़राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि इज़राइल गाजा पट्टी में सहायता के प्रवेश या बंधकों के बाहर निकलने की सुविधा के लिए लड़ाई में "सामरिक छोटे विराम" पर विचार करेगा। लेकिन उन्होंने अंतरराष्ट्रीय दबाव के बावजूद ‘’युद्धविराम’’ के आह्वान को फिर से खारिज कर दिया।

और क्या क्या हुआ?

- गाजा एन्क्लेव के उत्तर में घनी आबादी वाले गाजा शहर को घेरने के बाद, इज़राइल की सेना ने कहा कि उसने एक आतंकवादी परिसर पर कब्जा कर लिया है और भूमिगत सुरंगों के एक वॉरेन में छिपे सेनानियों पर हमला करने के लिए तैयार है।

- 7 अक्टूबर को दक्षिणी इज़राइल पर हमास के हमले के बाद से, जब उसके लड़ाकों ने 1,400 लोगों को मार डाला और 240 बंधकों को पकड़ लिया, इज़राइल ने एक हमले में एन्क्लेव पर बमबारी की है, जिसमें गाजा के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि लगभग 4,100 बच्चों सहित 10,000 से अधिक फिलिस्तीनियों की मौत हो गई है।

- संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद इस बीच फिर इज़राइल-हमास युद्ध पर सहमत होने में विफल रही है। 6 नवम्बर को बंद कमरे में दो घंटे से अधिक समय तक चली चर्चा के बावजूद देशों के बीच मतभेद बने रहे। जहाँ, अमेरिका "मानवीय विराम" का आह्वान कर रहा है, वहीं कई अन्य परिषद सदस्य गाजा में अत्यंत आवश्यक सहायता पहुंचाने और अधिक नागरिक मौतों को रोकने के लिए "मानवीय संघर्ष विराम" की मांग कर रहे हैं। अमेरिकी उप राजदूत रॉबर्ट वुड ने सुरक्षा परिषद् बैठक के बाद कहा, हमने मानवीय ठहराव के बारे में बात की और हम उस संबंध में भाषा को आगे बढ़ाने में रुचि रखते हैं।" लेकिन परिषद के भीतर इस बात पर असहमति है कि क्या यह स्वीकार्य है।

- संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा था कि वह गाजा में तत्काल मानवीय संघर्ष विराम चाहते हैं और कब्जे वाले वेस्ट बैंक, लेबनान और सीरिया से इराक और यमन तक पहले से ही हो रही "वृद्धि" को रोकना चाहते हैं। गुटेरेस ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून, जो नागरिकों और उनके जीवन के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे की सुरक्षा की मांग करता है, का स्पष्ट रूप से उल्लंघन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि - सशस्त्र संघर्ष में कोई भी पक्ष इन कानूनों से ऊपर नहीं है। उन्होंने उन बंधकों की तत्काल बिना शर्त रिहाई का आह्वान किया जिन्हें हमास ने 7 अक्टूबर के हमले में इज़राइल से गाजा में ले जाया था।

- इस महीने सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता करने वाले चीन और परिषद में अरब प्रतिनिधि संयुक्त अरब अमीरात ने गाजा में "मानवता के संकट" के कारण बैठक बुलाई गयी थी, जहां एक महीने से भी कम समय में 10,000 से अधिक लोग मारे गए हैं।

- यूएई के राजदूत लाना नुसेबीह ने कहा कि परिषद के सभी 15 सदस्य "पूरी तरह से लगे हुए हैं" और अंतराल को कम करने और एक समाधान पर सहमति तक पहुंचने के प्रयास जारी रहेंगे।

Snigdha Singh

Snigdha Singh

Leader – Content Generation Team

Started career with Jagran Prakashan and then joined Hindustan and Rajasthan Patrika Group. During her career in journalism, worked in Kanpur, Lucknow, Noida and Delhi.

Next Story